आजादी के बाद पहली बार काशी विश्वनाथ का हो रहा विस्तार, जानें विशेषताएं

ABHINAV AZAD, Last updated: Tue, 23rd Nov 2021, 7:07 AM IST
  • वाराणसी स्थित श्री काशी विश्वनाथ मंदिर परिक्षेत्र को आजादी के बाद पहली बार विस्तार दिया जा रहा है. करीब 250 साल बाद श्री काशी विश्वनाथ कॉरिडोर को विस्तार देकर इसका सौंदर्यीकरण कराया जा रहा है.
वाराणसी स्थित श्री काशी विश्वनाथ मंदिर कॉरिडोर को विस्तार देकर इसका सौंदर्यीकरण कराया जा रहा है.

वाराणसी. श्री काशी विश्वनाथ मंदिर परिक्षेत्र को विस्तार दिया जा रहा है. दरअसल, आजादी के बाद पहली दफा इस परिक्षेत्र को विस्तार दिया जा रहा है. इससे पहले इंदौर की महारानी अहिल्याबाई होलकर ने 1780 में मंदिर का जीर्णोद्धार कराया था. हालांकि इसके बाद महाराजा रंजीत सिंह ने 1836 में सोने का छत्र बनवाया था. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पहले ऐसे शासक हैं, जिन्होंने करीब 250 साल बाद श्री काशी विश्वनाथ कॉरिडोर को विस्तार देकर इसका सौंदर्यीकरण करा रहे हैं.

दरअसल, प्रधानमंत्री की इस महत्वाकांक्षी योजना के बाद अब श्री काशी विश्वनाथ धाम की इमारतें अपने स्वरूप में आने लगी हैं. इन इमारतों में एम्पोरियम व मंदिर चौक का प्रांगण काफी महत्वपूर्ण है. सावन और महाशिवरात्री जैसे महापर्वों में भक्त यहां रूकेंगे. मंदिर चौक के व्यूइंग गैलरी से गंगा व बाबा के शिखर का दर्शन हो पाएगा. वहीं एम्पोरियम में देश की हस्त निर्मित, हैंडीक्राफ्ट आदि चीजें एक छत के नीचे मिलेंगी. श्री काशी विश्वनाथ धाम का विकास करीब 50,200 वर्ग मीटर में 339 करोड़ रूपए की लागत से हो रहा है. भव्य आनंद वन में सुरक्षा, म्यूजियम, फैसिलेशन सेंटर, वाराणसी गैलरी, मुमुक्ष, भवन जैसे 24 भवन का निर्माण हो रहा है.

सॉल्वर गैंग का वाराणसी सरगना कन्हैयालाल गिरफ्तार, लघु सिंचाई विभाग में है कार्यरत

विश्वनाथ मंदिर में वास्तुशिल्प का अद्धभुत नजारा देखने को मिलेगा. परिसर के पूर्वी द्वार से बहार निकलते ही भक्त मंदिर चौक के क्षेत्र में पहुंच जाएंगे. यहीं रास्ता आगे मां गंगा का दर्शन भी कराएगा. इंग्लिश के यू आकार का भूतल और दो मंजिल का यह प्रांगण करीब 35000 स्क्वॉयर फीट का है. मंदिर चौक गेटवे भी यही है. श्री काशी विश्वनाथ ट्रस्ट के सीईओ सुनील वर्मा ने बताया कि मंदिर चौक की पहली मंजिल पर एम्पोरियम होगा. दूसरी मंजिल में मंदिर ट्र्स्ट के कर्मचारियों और उनके बोर्ड रूम के कार्यालय हैं. साथ ही उन्होंने आगे बताया कि व्यूइंग पॉइंट से पूरे विश्वनाथ धाम को निहारा जा सकता है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें