एंटीबायोटिक दवाओं के कई सैंपल फेल, UP में डेढ़ दर्जन लोगों पर केस दर्ज

Somya Sri, Last updated: Sun, 31st Oct 2021, 11:34 AM IST
  • कोरोना काल के दौरान एंटीबायोटिक दवाओं की डिमांड खूब बढ़ी थी. इसी का फायदा उठाते हुए वाराणसी और जौनपुर में मेडिकल स्टोर्स ने नकली एंटीबायोटिक दवाओं की सप्लाई शुरू कर दी. वाराणसी में 104 सैंपल में 10 दवाओं के सैंपल नकली निकले. जबकि जौनपुर में 150 सैंपल लिए गए जिसमें 20 फेल हो गए.
एंटीबायोटिक दवाओं के कई सैंपल फेल, UP में डेढ़ दर्जन लोगों पर केस दर्ज  (प्रतिकात्मक फोटो)

वाराणसी: कोरोना काल के दौरान एंटीबायोटिक दवाओं की डिमांड खूब बढ़ी थी. इसी का फायदा उठाते हुए वाराणसी और जौनपुर में मेडिकल स्टोर्स ने नकली एंटीबायोटिक दवाओं की सप्लाई शुरू कर दी. ड्रग कंट्रोलर विभाग ने जब एंटीबायोटिक दवाओं के सैंपल लिए तो उनके होश उड़ गए. वाराणसी में 104 सैंपल में 10 दवाओं के सैंपल नकली निकले. जबकि जौनपुर में 150 सैंपल लिए गए जिसमें 20 फेल हो गए. वाराणसी में फेल हुए 10 दवाओं के सैंपल में 6 दवाएं एंटीबायोटिक थी. जबकि जौनपुर में 15 नकली एंटीबायोटिक मिले हैं. बताया जा रहा है कि इनमें ज्यादातर ब्रांडेड कंपनियों के नाम से दवाएं हैं.

मिली जानकारी के मुताबिक इस घटना के बाद कई मेडिकल स्टोर्स पर छापा मारा गया. पता चला कि मेडिकल स्टोर्स के पास इन नकली एंटीबायोटिक दवाओं का कोई पुर्जा ही नहीं हैं. इसके बाद करीब 19 मेडिकल स्टोर्स के संचालकों के लाइसेंस निरस्त कर दिए गए. इस दौरान वाराणसी में 6 लोगों पर मुकदमा दर्ज किया गया है. वहीं जौनपुर में 13 लोगों पर मुकदमा दर्ज किया गया. कब इस बारे में ब्रांडेड कंपिनयों से पूछा गया तो उन्होंने बताया कि उनके नाम का इस्तेमाल कर यह फर्जीवाड़ा होगा.

वाराणसी के लंका थाने में विसरा रखने की नहीं है जगह, बदबू ने पुलिसकर्मियों की बढ़ाई परेशानी

इसलिए जरूरी हो गया है कि लोग अब जब भी एंटीबायोटिक दवाएं खरीदें तो सतर्क रहें. सेहत को दुरुस्त रखने के लिए जरूरी है कि एंटीबायोटिक दवाओं का सेवन करें तो एक बार दवाओं का जरूर करें. अगर शरीर में दवा के फायदे की जगह नुकसान हो रहा है तो तुरंत डॉक्टर से सम्पर्क करें. सहायक आयुक्त औषधि केजी गुप्ता ने कहा कि यह चिंताजनक बात है. पूर्वांचल में गाजीपुर में भी दो सैंपल फेल हुए हैं. उन्होंने कहा कि दीपावली के बाद बड़े स्तर पर सैंपलिंग का अभियान चलाया जाएगा.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें