वाराणसी: स्मार्ट सिटी योजना को मिलेगी रफ्तार, PMO तक पहुंचेगी समीक्षा रिर्पोट

Smart News Team, Last updated: 11/10/2020 06:18 PM IST
  • वाराणसी में स्मार्ट सिटी योजना के तहत हो रहे निर्माण कार्यो की समीक्षा अब प्रत्येक 15 दिन में की जाएगी. जिसकी रिपोर्ट प्रधानमंत्री कार्यालय बेजी जाएगी. प्रत्येक प्रोजेक्ट की फोटोग्राफी और वीडियोग्राफ़ी भी कराइ जाएगी. बनारस स्मार्ट सिटी ने इसके लिए टेंडर भी निकला है.
वाराणसी स्मार्ट सिटी परियोजना को रफ्तार देने की तैयारी में विभाग ( प्रतीकात्मक फोटो)

वाराणसी. वाराणसी को पीएम नरेंद्र मोदी ने स्मार्ट सिटी बनाने का वादा किया था. जिसके लिए उन्होंने स्मार्ट सिटी योजना के तहत वहां पर कार्य शुरू करवाया. लेकिन निर्माण कार्य की न तो तीव्रता से हो रहा है और न ही गुणवत्ता के साथ. इसे देखते हुए स्मार्ट सिटी योजना ने बनारस में चल रहे स्मार्ट सिटी योजना के तहत हो रहे निर्माण कार्यो का निरीक्षण कर उसकी समीक्षा करने के बारे में निर्देश दिए है. इन निर्माण कार्यों की समीक्षा को सीधे पीएमओ ऑफिस को भेजा जायेगा.

स्मार्ट सिटी निर्माण कार्यो की फोटोग्राफी और वीडियोग्राफ़ी भी कराएगी जिसके लिए उसने टेंडर भी निकला है. स्मार्ट सिटी योजना में शहर के नगर निगम, जल निगम, राज्य निर्माण निगम, आवास विकास और वीडीए के प्रोजेक्ट भी शामिल है. जिनकी फोटोग्राफ़ी और वीडिओग्राफी कई जाएगी और इन रिपोर्ट्स को पीएमओ ऑफिस भेजा जायेगा. कोरोना महामारी के चलते ये सभी कार्य लम्बे समय तक बंद रहे है. कोरोना के कारण कई प्रोजेक्ट्स के पुरे होने की तिथि को आगे बढ़ाया गया है और जिनमे लापरवाही के कारण अधिक समय लग गया है उनकी भी तिथियां आगे बढ़ाई गयी है.

गरीबी से लाचार मां ने नवजात को फेंका, ममता जागी तो ले आई जिगर के टुकड़े को वापस

स्मार्ट सिटी योजना केर तहत बनारस में 300 करोड़ रूपये का कार्य हो रहा है. शहर के कुछ वार्डो को स्मार्ट बनाने के लिए 100 करोड़ से भी ज्यादा का कार्य शुरू हुआ हो चूका है. जिसमें से कालभैरव, कामेश्वर महादेव, जंगमबाड़ी, दशाश्वमेध में काम चल रहा है. इसी तरह गोदौलिया व बेनियाबाग में भूमिगत पार्किंग का निर्माण सवा सौ करोड़ रुपये शुरू हो चूका है. बनारस के नगर आयुक्त गौरांग राठी ने बताया कि एक सप्ताह में सभी कार्य योजनाएं तैयार हो जाएगी. जिसके बाद निर्माण कार्यो की फोटोग्राफी व वीडियोग्राफी कराई जाएगी.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें