वाराणसी एयरपोर्ट पर ये दो स्निफर डॉग संभालेंगे सुरक्षा, मिला सवा करोड़ का घर

Smart News Team, Last updated: Fri, 18th Feb 2022, 6:42 PM IST
वाराणसी बाबतपुर लाल बहादुर शास्त्री अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट की सुरक्षा व्यवस्था अब स्निफर डॉग सिया और सिम्बा देखेंगे. एयरपोर्ट पर इन दोनों खोजी कुत्तों के रहने के लिए 1.25 करोड़ रुपये का घर भी बनाया गया है.
स्निफर डॉग सिया और सिम्बा देखेंगे वारणसी एयरपोर्ट की सुरक्षा व्यवस्था

वाराणसी. बाबातपुर स्थित लाल बहादुर शास्त्री अंतरराष्ट्रीय एपरपोर्ट पर सुरक्षा व्यवस्था के लिए स्निफर डॉग सिया और सिम्बा को जिम्मदारी मिली है. एयरपोर्ट की सुरक्षा की कमान संभालने वाले सिया और सिम्बा की ट्रेनिंग रांची में हुई है. इन दोनों स्निफर डॉग को वाराणसी एयरपोर्ट पर सीआईएसएफ टीम को सौंपा गया है. इतना ही नहीं सिया और सिम्बा के रहने के लिए प्रशासन की तरफ से 1.25 करोड़ रुपये का आत्याधुनिक घर बनाया गया है.

वाराणसी के अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डे की सुरक्षा व्यवस्था में शुक्रवार को लैब्राडोर प्रजाति के खोजी कुत्ते सिया और सिम्बा को तैनात किया गया. ऐसा इसलिए हुआ है क्योंकि पिछले 10 साल से एयरपोर्ट की सुरक्षा व्यवस्था संभाल रहे खोजी कुत्ते जानी और जिमी रिटायर हो गए हैं. जानी और जिमी को जल्द ही एक समारोह में एयरपोर्ट प्रशासन द्वारा विदाई दी जाएगी. वहीं एयरपोर्ट पर तैनात अधिकारियों और कर्मचारियों ने जानी और जिमी को रिटायर होते ही उसे गोद लेने के लिए सीआईएसएफ से संपर्क किया है.

UP-बिहार यात्रियों के लिए अच्छी खबर, 14 जुलाई से रोजाना चलेगी लखनऊ-छपरा स्पेशल

वाराणसी एयरपोर्ट की 10 साल तक सुरक्षा की कमान संभालने वाले जिमी और जानी छह जुलाई को रिटायर्ड हो चुके हैं. एयरपोर्ट डायरेक्टर आकाशदीप माथुर ने बताया कि लैब्राडोर नस्ल के जिमी और जानी जब 6 महीने के थे, तब उन्हें हरियाणा के पंचकूला से खरीदा गया था. इसके बाद दोनों को पंचकूला स्थित ITBP के नेशनल ट्रेनिंग सेंटर फॉर डॉग्स में 6 महीने तक ट्रेनिंग दी गई.

PM मोदी वाराणसी को देंगे 9 मेडिकल कॉलेजों की सौगात, 15 जुलाई को करेंगे दौरा

साल 2011 में दोनों की पोस्टिंग बाबतपुर एयरपोर्ट पर हुई थी. भले ही हवाई अड्डे पर अत्याधुनिक मशीनें हों, लेकिन किसी भी लावारिस सामग्री की सबसे पहले जिमी और जानी द्वारा जांच की जाती है. जिमी और जानी की सेवाओं के लिए उन्हें इसी साल 26 जनवरी को बाबतपुर एयरपोर्ट पर सम्मानित भी किया गया था.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें