वाराणसी : जिला पंचायत अध्यक्ष दावेदारों की क्रिमिनल रिकार्ड खंगाल रही पार्टियां

Smart News Team, Last updated: Thu, 13th May 2021, 11:25 PM IST
  • जिला पंचायत अध्यक्ष पद के लिए बीजेपी और समाजवादी पार्टी ने कमर कसना शुरू कर दिया है. दोनों पार्टियां अब सभी जीते 39 सदस्यों के क्रिमिनल रिकार्ड खंगालने में जुट गई है. जिले की यह सीट ओबीसी महिला के लिए आरक्षित है.
SP-BJP जिला पंचायत अध्यक्षों के दावेदारों का क्रिमिनल रिकार्ड खंगालने में जुटी है. (प्रतिकात्मक फोटो)

वाराणसी- उत्तर प्रदेश पंचायत चुनाव 2021 के नतीजे घोषित कर दिए गए. अब जिला पंचायत अध्यक्ष पद के लिए बीजेपी और समाजवादी पार्टी ने कमर कसना शुरू कर दिया है. दोनों पार्टियां अब सभी जीते 39 सदस्यों के क्रिमिनल रिकार्ड खंगालने में जुट गई है. एक जिला पंचायत सदस्य ने बताया कि प्रत्याशी समेत उनके पतियों का भी क्रिमिनल रिकार्ड खंगाला जा रहा है. साथ ही जीतने वाले उम्मीदवारों के परिवार के बारे में भी जानकारियां एकत्र की जा रही है.

बताते चलें कि जिले की यह सीट ओबीसी महिला के लिए आरक्षित है. ऐसे कयास लगाए जा रहे हैं कि जिला पंचायत अध्यक्ष पद पर बीजेपी और समाजवादी पार्टी के बीच कड़ी टक्कर होगी. दोनों दलों के पास दावेदारों के आवेदन आने लगे हैं. इसके अलावा पार्टियां भी कई नामों पर मंथन कर रही है.

20 मई के बाद UP बोर्ड परीक्षाओं पर होगा फैसला, जानें डिप्टी CM ने क्या कहा

समाजवादी पार्टी के जिला अध्यक्ष सुजीत यादव ने बताया कि फिलहाल चंदा यादव और प्रमिला यादव के नाम पर मंथन किया जा रहा है. हालांकि पार्टी ने अभी किसी भी नाम को फाइनल नहीं किया है. बताया जा रहा है कि संगठन स्तर पर चर्चा करने के बाद ही इसे फाइनल किया जाएगा. आंकड़े बताते हैं कि जिला पंचायत के सदस्यों में समाजवादी पार्टी की मजबूत स्थिति है. पार्टी जिलाध्यक्ष का कहना है कि तकरीबन 15 सदस्य हम लोगों के साथ हैं. जबकि इसके अलावा विपक्ष के भी 15 सदस्य हमारे संपर्क में हैं.

शादी के 7 साल बाद हुआ पत्नी से तलाक, सदमे में मासूम बच्चों संग उठाया यह कदम

वाराणसी: एक ही पते पर 27 की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव, सभी की तलाश जारी

पं. राजन मिश्र के नाम पर कोविड अस्पताल बनाने की घोषणा से खुश नहीं बेटे, क्या बोले?

UP के इस जिले में खुल गए शराब के ठेके, बाकी जिलों का फैसला ये साहब करेंगे

छापेमारी के बाद दोबारा ऑक्सिजन की कालाबाजारी, अब लिया गया ये एक्शन

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें