वाराणसी में कोरोना का भयानक मंजर, शवों को जलाने के लिए 5 से 6 घंटे करना पड़ रहा इंतजार

Smart News Team, Last updated: Sat, 17th Apr 2021, 10:43 AM IST
  • यूपी में कोरोना अब भयावह स्थिति में पहुंच गया है. वाराणसी के घाटों पर इतने शव पहुंच रहे है कि उन्हें गिनना मुश्किल हो रहा है. आलम यह है कि शवों को जलाने के लिए परिजनों को 5 से 6 घंटो तक इंतजार करना पड़ रहा है. यूपी में पिछले 24 घंटे में 27 हजार से अधिक केस सामने आए है, जिसमें 103 लोगों की मौत भी हो गई है.
बनारस के घाटों पर शवों को जलाने के लिए परिजनों करना पड़ रहा इंताजार.( सांकेतिक फोटो )

वाराणसी: कोरोना वायरस की दूसरी लहर ने पूरे देश को अपनी चपेट में लिया है. महाराष्ट्र के बाद यूपी में कोरोना के सबसे ज्यादा मरीज सामने आ रहे है. जिसका असर वाराणसी के घाटों पर दिखने लगा है. बनारस के हरिशचंद्र और मणिकर्णिका घाट पर शव को जलाने के लिए लोगों के घंटो इंतजार करना पड़ रहा है. आलम यह है कि घाटों पर शवों के पहुंचने का सिलसिला लगातार जारी है. हालात को देखते हुए राज्य सरकार ने यूपी में 15 मई तक रविवार को लॉकडाउन लगाने का फैसला किया है.

घाटों पर शवों को जलाने वाले बता रहे है कि हरिशचंद्र घाट का मंजर इतना भयानक है कि लोग शवों को गिनते-गिनते थक रहे है. शवों को जलाने के लिए मिलने वाली लकड़ी गीली है, जिससे काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा. हर समय 25 से 30 शव जलाने के पेंडिग में रखे है. शव जलाने वालो से पता चला रहा है कि शवों को सील पैक करके लाया जा रहे है, जिससे अंदाजा लगाया जा सकता है कि स्थिति कितनी गंभीर है.

UP में रविवार को लॉकडाउन, CM योगी ने सभी मंडलायुक्त, DM को दिए जरूरी दिशा-निर्देश

बीते 24 घंटो में उत्तर प्रदेश में 27,426 कोरोना के नए मामले सामने आए है जिसमें 103 लोगों की कोरोना संकम्रण से मौत हो गई. सबसे खराब हालत राजधानी लखनऊ की है. जहां एक दिन में 6598 कोरोना पॉजिटिव मरीज सामने आए, जिसमें से 35 लोगों की मौत हो गई. बीते 24 घंटों में 2,23,307 सैम्पल की जांच की गई है. अपर मुख्य सचिव चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद ने बताया, कि प्रदेश में 1,50,676 कोरोना के एक्टिव मामलों में से 77 हजार से अधिक लोग होम आइसोलेशन में है.

चुनाव में बढ़ी जय श्रीराम लिखे मास्क की मांग, जानें किन राज्यों में ज्यादा इसकी डिमांड

एक्टर विनीत सिंह ने कहा- बनारस में हूं दवा नहीं मिल रही, पंकज त्रिपाठी ने की मदद

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें