श्रीराम धुन संगीत के इस पुरोधा ने राम मंदिर निर्माण पर शुभकामना

Smart News Team, Last updated: 04/08/2020 07:23 PM IST
  • वाराणसी.सुप्रसिद्ध ठुमरी गायक पद्मविभूषण छन्नूलाल ने'श्रीराम धुन में जब तक मन तू मगन न होगा, जग जाल छूटने का तब तक जतन न होगा' संगीत के माध्यम से अयोध्या में बनने वाले राम मन्दिर निर्माण के लिए शुभकामनाएं दिए।
सुप्रसिद्ध ठुमरी गायक पद्मविभूषण छन्नूलाल

सुप्रसिद्ध ठुमरी गायक पद्मविभूषण छन्नूलाल ने 'श्रीराम धुन में जब तक मन तू मगन न होगा, जग जाल छूटने का तब तक जतन न होगा' संगीत के माध्यम से अयोध्या में बनने वाले राम मन्दिर निर्माण के लिए शुभकामनाएं दिए।

डिटेल: सुप्रीम कोर्ट द्वारा अयोध्या स्थित राम जन्मभूमि पर राम मंदिर बनाने को लेकर हरी झंडी मिल जाने के बाद मंदिर समिति द्वारा राम मंदिर निर्माण के लिए आगामी 5 अगस्त को भूमि पूजन की तारीख तय की गई है। जिसके बाद देशभर में राम भक्तों में प्रसन्नता की लहर है। वहीं सुप्रसिद्ध ठुमरी गायक पद्मविभूषण छन्नूलाल ने अपने संगीत 'श्रीराम धुन में जब तक मन तू मगन न होगा, जग जाल छूटने का तब तक जतन न होगा' के माध्यम से राम मंदिर निर्माण पर प्रसन्नता जताई है और देश के प्रधानमंत्री को शुभकामनाएं देते हुए धन्यवाद ज्ञापित किए।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में रहने वाले व आजमगढ़ में जन्मे काशी के संगीत घराने के ताज, भारतीय संगीत शास्त्र और पदम् भूषण व पद्मविभूषण से सम्मानित पंडित छन्नूलाल मिश्रा ने कहा कि प्रधानमंत्री द्वारा राम मंदिर का नींव रखने के बाद रामराज्य की भी स्थापना होगी। लम्बे अर्से के इंतजार के बाद यह दिन आया है, जो कि पूरे देश के लिए गौरव की बात है। राम मन्दिर के लिए जिन कारसेवकों ने अपनी जान गवाईं थीं, उनके बलिदान का, साधू सन्यासियों के श्रद्धा और सरकार के प्रयास के कारण यह सम्भव हो पाया है। उन्होंने 'श्रीराम धुन में जब तक तू मन मगन न होगा' के सुर के साथ अयोध्या में श्री राम जन्म भूमि पर राम मंदिर के शिलान्यास के शुभ अवसर पर भजन गाकर समस्त देशवासियों को बधाई दी। पद्मश्री पंडित छन्नूलाल ने कहा कि राम नाम बिन सब व्यर्थ है। वहीं देश के प्रधानमंत्री की प्रसंशा करते हुए उन्होंने कहा कि पीएम नरेंद्र मोदी अपने जबान के पक्के हैं। उन्होंने जनता से राम मंदिर निर्माण का वादा किया था जिसे वे पूरा भी कर रहे हैं।

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें