स्लाइडर गेट के चपेट में आने से 3 साल के घायल बच्चे की इलाज के दौरान मौत

Smart News Team, Last updated: Tue, 16th Mar 2021, 4:37 PM IST
  • वाराणसी के सारनाथ थानाक्षेत्र के लेढुपुर गांव में एक तीन साल के मासूम की मौत 5 कुंटल के लोहे के स्लाइडर गेट की चपेट में आने से इलाज के दौरान डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया.
स्लाइडर गेट के चपेट में आने से 3 साल के घायल बच्चे की इलाज के दौरान मौत (प्रतीकात्मक तस्वीर) 

वाराणसी: कभी - कभी सुरक्षा के लिए लाई गई तकनीकी जीवन के लिए खतरनाक साबित होती है. अगर उसका उपयोग ठीक से न होतो वो आपकी जान भी ले सकती है. इसी का एक उदाहरण देखने को मिला वाराणसी के सारनाथ थानाक्षेत्र के लेढुपुर गांव में एक तीन साल के मासूम की मौत 5 कुंटल के लोहे के स्लाइडर गेट की चपेट में आने से इलाज के दौरान डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया. सोमवार की शाम सारनाथ थानाक्षेत्र के लेढुपुर गांव में गिरजेश यादव पेशे से दूध के कारोबारी का इकलौता बेटा समर्थ यादव 3 पांच कुंटल के स्लाइडिंग गेट की चपेट में आने से आने से गंभीर रूप से घायल हो गया.

 परिजनों ने घायल शिशु को पास के निजी अस्पताल में भर्ती कराया. जहां इलाज के दौरान बच्चे की मौत हो गया. इसके बाद परिजनों ने सरायमोहाना स्थित शमशान घाट पर अंत्येष्टी कर दी. जानकारी के अनुसार सोमवार की शाम समर्थ (3) हाल ही में लगे पांच कुंतल के स्लाडर चैनल गेट के पास खेल रहा रहा था. स्लाइडर गेट का लॉक छोटा था. खेलते-खेलते समर्थ यादव ने गेट को अपनी तरफ खिंच दिया.

अज्ञात तत्वों ने हाईवे पर होली जला की अराजकता फैलाने की कोशिश, पुलिस हुई अलर्ट

लॉक छोटा होने के कारण गेट लड़के के घसीटते हुए बाउंड्री वॉल के बीच में जाकर फंस गया. गेट और दीवार के बिच में दबने से शिशु गम्भीर रूप से घायल हो गया. गेट बंद होने की आवाज सुनकर परिजन दौड़े. तब तक समर्थ गंभीर रूप से घायल हो गया. परिजनों ने पास के निजी अस्पताल ले गए. जहां डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया. मृतक समर्थ के पिता चार भाई हैं. परिवार में कोहराम मचा हुआ है. मृतक शिशु की मां का रो रो कर बुरा हाल है.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें