आज वाराणसी पहुंचेंगे केएन गोविंदाचार्य, 19-22 सितंबर के बीच लोगों से बात करेंगे

Smart News Team, Last updated: 19/09/2020 11:00 AM IST
  • स्वदेशी विचारक केएन गोविंदाचार्य अध्ययन अवकाश के बीस साल होने पर गंगा के तटीय क्षेत्रों की यात्रा पर हैं. आज वह तीन दिन के प्रवास अध्ययन के बाद वाऱाणसी पहुंचगे. यहां से वो  19 से 22 सितंबर तक लोगों से संवाद करेंगे.
आज वाराणसी पहुंचगे केएन गोविंदाचार्य, 19-22 सितंबर के बीच लोगों से बात करेंगे

स्वदेशी विचारक केएन गोविंदाचार्य तीन दिन के अध्ययन प्रवास के बाद वाराणसी पहुंचगे. अध्ययन अवकाश के बीस साल पूरे होने पर गंगा के तटीय क्षेत्रों की यात्रा पर हैं.वाराणसी में चार बजे शूलटंकेश्वर में गंगा पूजन करेंगे. उन्होंने अपने 20 साल के अवकाश के दौरान ज्यादातर समय यही पर एक अतिथिगृह में उन्होंने बिताया है.राष्ट्रीय स्वाभिमान परिषद के स्थानीय संयोजक बृजेश सिंह ने बताया कि कल यानी कि 20 सितंबर को गोविंदाचार्य तीन बजे पियरी पुलिस थाने के पास वेद भवन जाएंगे और वहां के लोगों से बात करेंगे. अगले दिन 21 सितंबर को रामनगर में काशी कथा की परिचर्चा में शामिल होंगे और फिर 22 सितंबर को दीनदयाल उपाध्याय नगर में जनता से संवाद करने के बाद बक्सर चले जाएंगे.

वाराणसी: BHU की कोरोनावायरस से लड़ने की तैयारी, बना रहा हर्बल टैबलेट

केएन गोविंदाचार्य ने 20 साल पहले नौ सितंबर 2000 में सक्रिय राजनीति छोड़कर अध्ययन अवकाश लिया था. इसके 20 साल पूरे होने पर वह एक सितंबर से अध्ययन प्रवास यात्रा पर है. इसका समापन दो अक्टूबर को होना है. इस दौरान वह देश की दिशा को देख रहे हैं. समाज में सरकारी नीतियों का क्या प्रभाव पड़ रहा है. इससे वह स्थितियों को समझना चाहते हैं. इस समय जब कोरोना वायरस का प्रमाव दिनों- दिन बढ़ रहा है. इस दौरान लोगों से बात करने के दौरान शायद ज्यादा अच्छे से देश की दिशा को जान पाएंगे.

वाराणसी: BHU की कोरोनावायरस से लड़ने की तैयारी, बना रहा हर्बल टैबलेट

शुक्रवार को गोविंदाचार्य विंध्याचल में पत्रकारों से बात करते हुए कहते हैं कि भारत को स्वदेशी विकास का रास्ते अपनाना चाहिए. वैसे मोदी सरकार कोरोनाकाल में आत्मनिर्भर भारत अभियान शुरू कर चुकी हैं. जिसके अनुसार देश अपनी जरूरत के अधिकतर समानों के लिए दूसरों पर निर्भर नहीं रहेगा. 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें