सारनाथ के धर्म रजिका स्तूप का पर्यटन विभाग ने जारी किया पोस्टर

Smart News Team, Last updated: Sun, 21st Feb 2021, 1:42 PM IST
  • उत्तर प्रदेश पर्यटन विभाग ने सारनाथ के पुरातात्विक महत्त्व के स्थल खंडहर परिसर के बारे में जानकारी इंटरनेट मीडिया में साझा की है. इसको लेकर यूपी टूरिज्म की ओर से सारनाथ स्थित धर्म राजिका स्तूप का पोस्टर भी जारी किया है.
फाइल फोटो

वाराणसी. उत्तर प्रदेश पर्यटन विभाग प्रदेश स्तर पर स्थलों की महत्ता के बारे में जानकारी देकर पर्यटकों को स्थल पर भ्रमण करने के लिए प्रेरित करता रहा है. यूपी टूरिज्म की ओर से वाराणसी और शहर के अन्य पर्यटन स्थलों के बारे में जानकारी साझा कर निरंतर पोस्टर जारी किए जाते रहे हैं. अब इस क्रम में यूपी टूरिज्म की ओर से भगवान बुद्ध की प्रथम उपदेश स्थली सारनाथ के पुरातात्विक महत्त्व के स्थल खंडहर परिसर में बना ऐतिहासिक धर्म राजिका स्तूप का पोस्टर जारी किया गया है. इस पोस्टर को इंटरनेट मीडिया पर साझा कर पर्यटन विभाग ने लिखा है कि जैसे ही आप वाराणसी के सारनाथ स्थित पुरातात्विक परिसर में प्रवेश करेंगे, आप धर्म राजिका स्तूप की एक उपस्थित नींव देखेंगे. यह अधूरा लग रहा है लेकिन इसके बारे में एक दिलचस्प तथ्य है. इस तथ्य के बारे में पता लगाने के लिए आपको एक यात्रा का भुगतान करना पड़ेगा.

बता दें कि भगवान बुद्ध की प्रथम उपदेश स्थली के रूप में विख्यात सारनाथ की महत्ता पूरे विश्व में प्रचलित है. सारनाथ के बारे में कई ऐतिहासिक दस्तावेजों में भगवान बुध और अशोक कालीन स्थल के तौर पर पहचान मानी गई है.पुरातात्विक महत्व के सारनाथ में खंडहर परिसर और यहां से निकले ऐतिहासिक और पौराणिक दस्तावेजों को संग्रहालय में स्थान दिया गया है. इसी खंडहर परिसर में मौजूद धर्म राजिका स्तूप के बारे में यूपी पर्यटन विभाग ने पोस्टर जारी कर जानकारी साझा की है. 

नई फसल आई, फिर भी प्याज पर महंगाई

बता दें कि धर्म राजिका स्तूप स्थल पर बौद्ध गुरू और तप करने वाले भिक्षुओंं के बैठने का स्थल है. यह धर्मराजिका स्थल के तौर पर आज भी अपनी पहचान बरकरार रखे हुए हैं. यूपी टूरिज्म की ओर से इंटरनेट मीडिया पर साझा किए गए इस पोस्टर को बड़ी संख्या में लोग पसंद कर रहे हैं और इसे लाइक कमेंट कर शेयर भी कर रहे हैं.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें