कब तक कम होंगे रसोई गैस के दाम, पेट्रोलियम मंत्री ने दिया ये जवाब

Smart News Team, Last updated: Sun, 28th Feb 2021, 4:59 PM IST
वाराणसी दौरे के दौरान केंद्रीय पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने रसोई गैस के दामों में कमी को लेकर कहा कि मार्च-अप्रैल तक गैस के दामों में कमी आने की उम्मीद है. हालांकि पेट्रोल और डीजल की कीमतों में कमी की समय सीमा को लेकर मंत्री ने कुछ भी कहने से इनकार कर दिया. उन्होंने कहा कि यह अंतरराष्ट्रीय मामला है.
केंद्रीय पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने बताया कि मार्च-अप्रैल तक रसोई गैस के दामों में कमी आने की उम्मीद है.

वाराणसी. केंद्रीय पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने बताया कि मार्च-अप्रैल तक रसोई गैस के दामों में कमी आने की उम्मीद है. बढ़ती कीमतों को लेकर उन्होंने कहा कि अक्सर सर्दियों के सीजन में डिमांड अधिक होने से खपत बढ़ती है. जिसका असर फिलहाल दामों में दिख रहा है.

सर्किट हाउस में अनौपचारिक बातचीत में पेट्रोलियम मंत्री ने कहा कि आने वाले दिनों में सरकार एक करोड़ लोगों के लिए उज्जवला योजना लाने जा रही है सरकार का लक्ष्य है कि पूर्वांचल के हर घर में सीएनजी की आपूर्ति की जाए. उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री ऊर्जा गंगा योजना की शुरुआत काशी से हुई थी. अब इसके लिए देश भर में काम चल रहा है.

वाराणसी में बोले धर्मेंद्र प्रधान, क्यों बढ़ रहे एलपीजी गैस के दाम

मंत्री ने कहा कि 2023 तक 500 जिलों में पीएनजी लाइन पहुंचानी है. उन्होंने बताया कि बनारस में गंगा में पर्यटन की दृष्टि से 2000 नावों को सीएनजी में परिवर्तित करने के लिए नगर निगम को दायित्व दिया गया है. इसके अलावा उन्होंने पेट्रोल-डीजल के दाम घटने की समय सीमा बताने पर कुछ भी कहने से इनकार कर दिया. उन्होंने कहा कि यह अंतरराष्ट्रीय मामला है. भारत सरकार ओपेक संगठन से जुड़े तेल उत्पादक देशों पर उत्पादन बढ़ाने का दबाव बढ़ा रहा है. सर्किट हाउस में उन्होंने विकास कार्य और विकास परियोजनाओं की अधिकारियों के साथ समीक्षा की. उसके बाद में दिल्ली के लिए रवाना हो गए.

नड्डा का वाराणसी दौरा, योगी सहित BJP के दिग्गजों के साथ करेंगे चुनावों पर चर्चा

आपको बता दें कि इससे पहले पेट्रोलियम मंत्री संत रविदास मंदिर में पूजा अर्चना के बाद खिड़किया घाट पहुंचे. यहां उन्होंने घाट के विस्तारीकरण और सुंदरीकरण का निरीक्षण किया. सीएनजी से नाव संचालन का परीक्षण कराया. उन्होंने कहा कि परीक्षण सफल रहा, जल्द ही प्रधानमंत्री इसका शुभारंभ करेंगे. पीएम की कल्पना है कि गंगा में चलने वाली नावें डीजल के बजाय सीएनजी से चलें ताकि नाविकों की बचत हो सके. प्रधानमंत्री ऊर्जा गंगा अब तकनीकी रूप से गंगा के अंदर पहुंच गई है. गेल और मेकन इस दिशा में तेजी से कार्य कर रहे हैं. इसके अलावा बनारस का स्मार्ट सिटी के तहत सुंदरीकरण किया जा रहा है. उन्होंने कहा कि सीएनजी के उपयोग से नाविकों को आर्थिक लाभ मिलेगा. साथ ही गंगा का प्रदूषण भी कम होगा.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें