वाराणसी में कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी की किसान न्याय यात्रा, ये है शेड्यूल

Ankul Kaushik, Last updated: Sat, 9th Oct 2021, 6:39 PM IST
  • यूपी विधानसभा चुनाव 2022 के लिए कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी की किसान न्याय यात्रा रविवार को वाराणसी से शुरू होगी. इस रैली के लिए प्रियंका गांधी करीब 6 घंटे वाराणसी में रहेंगी और यहां पर एक विशाल जनसभा को वह संबोधित करेंगी. इस खबर में जानें इस रैली का शेड्यूल.
वाराणसी में रविवार को कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी की किसान न्याय यात्रा

वाराणसी. कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वारणसी में रविवार को किसान न्याय रैली की शुरुआत करेंगी. कांग्रेस की किसान न्याय रैली वाराणसी के जगतपुर इंटर कॉलेज में होगी और इस रैली के लिए वाराणसी में करीब 6 घंटे प्रियंका गांधी रहेंगी. इसके साथ ही वह सुबह 11.15 बजे वाराणसी एयरपोर्ट पहुंचेंगी और फिर बाबा विश्वनाथ मंदिर में दर्शनकर दुर्गाकुंड में जाएंगी. दुर्गाकुंड के मां कुष्मांडा मंदिर में वह माथा टेकेंगी और फिर बीएचयू के सिंह द्वार भी जाएंगी. इसके साथ ही कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी पं. मदन मोहन मालवीय की प्रतिमा पर माल्यार्पण करेंगी. कांग्रेस पहले इस रैली को प्रतिज्ञा रैली के नाम से कर रही थी लेकिन किसान आंदोलन और लखीमपुर हिंसा को देखते हुए कांग्रेस ने इस रैली का नाम बदलकर किसान न्याय रैली रख लिया है.

वाराणसी में कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी पूर्वांचल में किसान आंदोलन को हवा देंगी. प्रियंका गांधी की यह रैली मिशन 2022 के लिए कांग्रेस में जान फूंकने का काम करेगी. वाराणसी में होने वाली इस रैली में प्रियंका गांधी लखीमपुर खीरी के पीड़ितों के लिए न्याय और विवादित कृषि कानूनों को वापस लेने की मांग करेंगी. प्रियंका की इस रैली को लेकर कांग्रेस के कार्यकर्ताओं में काफी उत्साह है. वाराणसी में होने वाली इस रैली के लेकर यूपी कांग्रेस ने ट्वीट करते लिखा है कि भाजपाई अहंकार को कुचलने किसानों के न्याय की आवाज बुलंद करने चलो बनारस.

अंतिम समय में प्रियंका गांधी की कांग्रेस प्रतिज्ञा रैली का नाम बदलकर किसान न्याय रैली

बता दें कि लखीमपुर हिंसा में मारे गए किसानों के हत्यारों को पकड़वाने के लिए प्रियंका गांधी को पुलिस ने गिरफ्तार भी किया थी. अपनी गिरफ्तारी को लेकर प्रियंका ने कहा था कि आप पिछले 4-5 दिन का सिलसिला देखिए. उत्तर प्रदेश की जितनी भी पुलिस फोर्स है, उसकी तैनाती नाकाबंदी में, परिवारों की नजरबंदी में और विपक्ष के नेताओं को रोकने में हो रही है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें