डिंपल यादव ने BJP पर कसा तंज, कहा- ये किसी को भी आंतकी बना सकते है

Somya Sri, Last updated: Sat, 16th Oct 2021, 12:23 PM IST
  • पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की पत्नी डिंपल यादव ने भारतीय जनता पार्टी पर तंज कसा है. विजयादशमी के मौके पर विंध्यवासिनी में दर्शन करने के बाद वाराणसी पहुंची डिंपल यादव ने मीडिया से मुखातिब होते हुए बीजेपी पर तंज हुए कहा कि यह किसी को भी आतंकवादी बना देते हैं. ये इनकी सोच और मानसिकता को दर्शाता है.
पूर्व सपा सासंद डिंपल यादव (फाइल फोटो)

वाराणसी: उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2022 में अब ज्यादा वक्त नहीं बचा है. जैसे-जैसे चुनाव नजदीक आ रहे हैं वैसे सभी राजनीतिक दल अपने वोटरों को लुभाने की कोशिश में जुटे हुए हैं. इस दौरान राजनीतिक दलों के बीच एक दूसरे पर जुबानी जंग भी शुरू हो गई है. इसी कड़ी में पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की पत्नी व पूर्व सपा सांसद डिंपल यादव ने भारतीय जनता पार्टी पर तंज कसा है. विजयादशमी के मौके पर विंध्यवासिनी में दर्शन करने के बाद वाराणसी पहुंची डिंपल यादव ने मीडिया से मुखातिब होते हुए बीजेपी पर तंज हुए कहा कि यह किसी को भी आतंकवादी बना देते हैं.

उन्होंने कहा कि," भाजपा किसी को भी आतंकवादी घोषित कर सकती है. ये इनकी सोच और मानसिकता को दर्शाता है." डिंपल ने कहा कि," भाजपा ने किसानों को भी आतंकवादी कहा, जो देश के लिए और इनके खुद के लिए घातक होगा." वहीं समाजवादी विजय यात्रा के सवाल पर पूर्व सांसद डिंपल ने कहा कि," माता का आशीर्वाद लेकर आए हैं. समाजवादी विजय यात्रा बहुत सार्थक साबित होगी. यूपी में एक नई सरकार बनेगी, जो इस प्रदेश का भविष्य संवारने का काम करेगी."

UP Election 2022: दलितों को साधने में जुटी SP, बाबा साहब वाहिनी के अध्यक्ष बने मिठाई लाल

गौरतलब है कि हाल ही में यूपी भाजपा के अध्यक्ष स्वतंत्रदेव सिंह ने कहा था कि, "अखिलेश यादव के शासन काल में आतंकवाद का बम फटता था." इससे पहले भी यूपी भाजपा की ओर से अखिलेश यादव पर तंज कसा गया है. इससे पहले बिना नाम लिए भाजपा ने ट्वीट कर अखिलेश यादव और निशाना साधा था. भाजपा ने ट्वीट कर कहा था कि," एक लड़के ने अपने पिताजी से उनकी साइकिल छीन ली. फिर उस साइकिल का बुरा हाल करके छोड़ दिया. ब वो लड़का 'बाईस साइकिल' के ख्वाब देख रहा है. जो एक न संभाल पाया वो 'बाईस' क्या संभालेगा? बाईस नहीं मिलेंगी बबुआ! न यकीन हो तो एकबार 'बुआ' से पूछ लो. "

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें