Varanasi Election Voting Date: वाराणसी में वोट कब, मतदान की तारीख

Ruchi Sharma, Last updated: Sat, 8th Jan 2022, 5:40 PM IST
  • उत्तर प्रदेश के वाराणसी में सातवें चरण में चुनाव होंगे. नामांकन की आखिरी तारीख 17 फरवरी है. नामांकन की स्क्रूटनी 18 फरवरी को और नामांकन वापसी 21 फरवरी को होगी. 07 मार्च को वाराणसी में यूपी के सातवें चरण के मतदान यानी वोटिंग होगी.
वाराणसी में विधानसभा चुनाव के लिए मतदान

वाराणसी. केंद्रीय चुनाव आयोग ने शनिवार को उत्तर प्रदेश समेत देश के 5 राज्यों में होने वाले विधानसभा चुनाव के लिए तारीखों का ऐलान कर दिया है. यूपी में कुल 403 विधानसभा सीटों पर 10 फरवरी से 7 मार्च तक कुल सात चरणों में मतदान होगा. 10 मार्च 2022 को वोटों की गिनती होने के बाद विधानसभा चुनाव के नतीजे आएंगे. उत्तर प्रदेश के वाराणसी में सातवें चरण में चुनाव होंगे. नामांकन की आखिरी तारीख 17 फरवरी है. नामांकन की स्क्रूटनी 18 फरवरी को और नामांकन वापसी 21 फरवरी को होगी. 07 मार्च को वाराणसी में यूपी के सातवें चरण के मतदान यानी वोटिंग होगी.

उत्तर प्रदेश के वाराणसी में 8 विधानसभा सीट है. पिण्ड्रा, अजगरा, शिवपुर, रोहनियां, वाराणसी उत्तरी, वाराणसी दक्षिणी, वाराणसी कैंट, सेवापुरी है.

चुनाव की तारीखों की घोषणा के साथ ही यूपी में आदर्श आचार संहिता लग गई है. मुख्य चुनाव आयुक्त सुशील चंद्र ने कहा कि 15 जनवरी तक चुनावी राज्यों में चुनावी रैलियों, रोड शो, पदयात्रा, साइकिल, बाइक रैली पर रोक रहेगी. चुनाव आयोग 15 जनवरी के बाद स्थिति का जायजा लेगा, उसके बाद आगे का फैसला लिया जाएगा. राजनीतिक पार्टियां वर्चुअल रैलियां कर सकती हैं.

विधानसभा चुनाव ऐसे समय में हो रहे हैं जब देश में कोरोना की तीसरी लहर का खतरा बना हुआ है. मुंबई-दिल्ली जैसे शहर कोरोना के ओमिक्रॉन वेरिएंट से पहले ही बेहाल हो चुके हैं. अब बाकी शहरों पर भी इसका खतरा मंडरा रहा है. कोरोना और उसके नए वेरिएंट ओमिक्रॉन की वजह से देशभर में हालात लगातार खराब होते जा रहे हैं. इसको देखते हुए भारतीय निर्वाचन आयोग पांच राज्यों में चुनाव के दौरान कोविड प्रोटोकॉल और सख्त करने के निर्देश दिए हैं. इसके अलावा आयोग चुनावी रैलियों के नियम भी और कड़े कर दिए हैं.

बता दें कि चुनाव आयोग उत्तर प्रदेश के साथ-साथ उत्तराखंड, पंजाब समेत सभी पांच राज्यों के चुनाव कार्यक्रम का ऐलान कर दिया है. पिछले चुनाव के तारीखों की तुलना में इस बार चार दिनों की देरी है. 2017 में 4 जनवरी को चुनाव के तारीखों का ऐलान हुआ था. 36 दिनों बाद 11 फरवरी से 8 मार्च तक सात चरणों में वोटिंग हुई थी.

 

 

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें