UP Election Results 2022: वाराणसी और मेरठ में विशेष पर्यवेक्षक तैनात, पटना व दिल्ली से भेजे गए अधिकारी

Somya Sri, Last updated: Thu, 10th Mar 2022, 6:16 AM IST
  • चुनाव आयोग ने वाराणसी और मेरठ में विशेष पर्यवेक्षक को तैनात कर दिया है. बिहार के मुख्य निर्वाचन अधिकारी (सीईओ) एच आर श्रीनिवास को वाराणसी और दिल्ली के मुख्य निर्वाचन अधिकारी डॉ. रनवीर सिंह को मेरठ में मतगणना कराने की जिम्मेदारी दी गयी है. ईवीएम को लेकर या मतगणना के दौरान किसी भी प्रकार का बवाल ना हो इसलिए इन्हें तैनात किया गया है.
उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव रिजल्ट (फाइल फोटो)

वाराणसी: उत्तर प्रदेश के वाराणसी मेरठ सहित अन्य जिलों में ईवीएम पर हुए बवाल को लेकर चुनाव आयोग ने बड़ा फैसला लिया है. बुधवार को चुनाव आयोग ने वाराणसी और मेरठ में विशेष पर्यवेक्षक को तैनात कर दिया है. बिहार के मुख्य निर्वाचन अधिकारी (सीईओ) एच आर श्रीनिवास को वाराणसी और दिल्ली के मुख्य निर्वाचन अधिकारी डॉ. रनवीर सिंह को मेरठ में मतगणना कराने की जिम्मेदारी दी गयी है. ये अधिकारी काउंटिंग के दौरान हो रही हर छोटी बड़ी घटना पर विशेष नजर रखेंगे. मतगणना के दौरान किसी भी प्रकार का बवाल ना हो इसलिए चुनाव आयोग ने ये बड़ा फैसला लिया है.

जानकारी के मुताबिक एचआर श्रीनिवास 1996 बैच के भारतीय प्रशासनिक सेवा के अधिकारी हैं. वे बिहार के मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी के रूप में 2018 से पदस्थापित हैं. उनके अबतक के कार्यकाल में बिहार विधानसभा और लोकसभा का निष्पक्ष चुनाव कराया जा चुका है. वहीं उन्होंने ने ही कोरोना काल में बिहार में चुनाव सम्पन्न कराया था.

Varanasi EVM विवाद के बाद चुनाव आयोग का एक्शन, एडीएम एनके सिंह सस्पेंड

बता दें कि सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने आरोप लगाया था कि सोमवार देर रात ईवीएम लदी तीन गाड़ियां कहीं भेजी जा रही थी. सपा के लोगों ने एक गाड़ी पकड़ ली और इस दौरान दो गाड़ियां वहां से भाग निकली. इधर जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा का कहना था कि ये सभी ईवीएम का चुनाव से कोई सम्बन्ध नहीं है. सभी ईवीएम 10 मार्च को होने वाली मतगणना के लिए लगे कर्मियों को दी जाने वाले ट्रेनिंग के लिए यूपी कालेज भेजी रही थी. उन्होंने कहा था कि इन मशीनों को काउंटिंग करने वाले कर्मचारियों की ट्रेनिंग के लिए लाया जा रहा था. लोगों ने असली ईवीएम समझकर उन्हें पकड़ ली.

हालांकि इस घटना के बाद सपा के कार्यकर्ताओं व अन्य दलों के नेताओं ने कई जिलों में ईवीएम में फेरबदल और धांधली का आरोप लगाकर हंगामा किया. वहीं सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कार्यकर्ताओं को स्ट्रांग रूम की सुरक्षा के लिए आगे आने का आह्वान किया. वहीं रात में सपा के प्रदेश अध्यक्ष नरेश उत्तम और सुभासपा अध्यक्ष ओमप्रकाश राजभर के नेतृत्व में नेताओं ने मुख्य निर्वाचन अधिकारी को ज्ञापन सौंपकर निष्पक्ष मतगणना के साथ वाराणसी के जिलाधिकारी व मंडलायुक्त को हटाने की मांग की. जिसके बाद चुनाव आयोग ने बड़ा फैसला लेते हुए मेरठ और वाराणसी में विशेष अधिकारियों को तैनात कर दिया है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें