मेरे प्यार से मिला दो, जेल में बंद प्रेमी को छुड़ाने SHO के पास पहुंची नाबालिग

Smart News Team, Last updated: Wed, 10th Mar 2021, 9:34 PM IST
  • उत्तर प्रदेश के वाराणसी में एक नाबालिग लड़की जेल में बंद अपने प्रेमी को छुड़वाने के लिए थाने पहुंच गई. हालांकि, पुलिस ने  उसके परिजनों को बुलाकर उसे वापस भेज दिया.
पुलिस ने किशोरी को समझाबुझाकर घर भेज दिया. (प्रतिकात्मक फोटो)

वाराणसी. मिर्जामुराद थाने में पुलिस वाले उस वक्त दंग रह गए जब जेल में बंद अपने प्रेमी को छुड़ाने के लिए नाबालिग लड़की थाने पहुंच गई. इसके बाद जब नाबालिग किशोरी के थाने पहुंचने की जानकारी पुलिस ने परिजनों को दी तो उन्‍होंने भी अपना माथा पीट लिया. पुलिस के मुताबिक नाबालिग अपने प्रेमी प्रेमी संग रहने की जिद कर रही है. उसका आरोप है कि घरवाले जमानत कराने के लिए वकील से बात नहीं करने देते हैं. बताया कि उससे मोबाइल और सिम तक छीन लिए हैं. काफी जद्दोजहद के बाद पुलिस ने किशोरी को उसके परिजनों के साथ भेजा.

मिली जानकारी के मुताबिक सोनभद्र जिले के राबर्ट्सगंज थानांतर्गत चन्द्रपुरी गांव निवासी शिवशंकर मौर्य उर्फ हेमंत नामक युवक मिर्जामुराद क्षेत्र के खजुरी स्थित हाइवे पर सड़क बनाने वाली कंपनी के प्लांट में काम करता था. प्लांट में गनेशपुर गांव निवासी एक युवक भी काम कर रहा था. यहां दोनों में दोस्ती हो गई. दोस्त के घर आते-जाते उसकी बहन से शिवशंकर प्यार कर बैठा. आंखें चार हुईं तो दोनों का प्यार परवान चढ़ने लगा. इसी बीच 18 नवंबर को कक्षा 9 में पढ़ने वाली 17 वर्षीय नाबालिग किशोरी को लेकर युवक‍ फरार हो गया.

वाराणसी के एक निजी अस्पताल में लगी आग, आईसीयू में फंसे 10 मरीज

इसके बाद किशोरी के परिजनों ने शिवशंकर के खिलाफ पुत्री को बहका फुसलाकर अपहरण कर ले जाने की रिपोर्ट दर्ज कराई. एक माह बाद पुलिस ने प्रेमी को पकड़ जेल भेज दिया था. इसके बाद से ही किशोरी अपने प्रेमी को जेल से छुड़ाने के लिए प्रयासरत है. इसी कड़ी में बुधवार को वह थाने पहुंचकर हंगामा करने लगी और उसे जेल से छुड़ाने के लिए जिद करने लगी. आननफानन परिजनों को बुलाकर पुलिस ने किशोरी को समझाबुझाकर घर भेज दिया.

राकेश टिकैत की पूर्वांचल में पहली किसान महापंचायत, वाराणसी एयरपोर्ट पर ये कहा

वाराणसी सर्राफा बाजार में सोना धड़ाम चांदी की चमक बढ़ी, सब्जी मंडी थोक रेट

पुलिस अधिकारी बताकर की शादी और आर्मी कैप्टन बनकर की लाखों की ठगी, अरेस्ट

वाराणसी: ब्रेन हैमरेज से पंप ऑपरेटर की मौत, पांच महीने से नहीं आई थी सैलेरी

वाराणसी का मंडलीय अस्पताल होगा पेपरलेस, अब पर्ची और जांच रिपोर्ट खोने का डर नहीं

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें