यूपी: इस गांव में 27 फीसदी आबादी SC, फिर भी आजादी के बाद से कभी नहीं हुआ आरक्षित

Smart News Team, Last updated: 03/03/2021 04:11 PM IST
  • चोलापुर विकास खंड कैथी ग्राम सभा में अनुसूचित जातियों की कुल आबादी 27 प्रतिशत है. इतनी बड़ी संख्या में होने के बावजूद आजादी से लेकर अबतक तक और पंचायती राज व्यवस्था में आरक्षण की व्यवस्था लागू होने के बाद भी कैथी ग्राम सभा के ग्राम प्रधान के पद पर कभी भी अनुसूचित जाति के लोगों के लिए आरक्षण नही मिला.
यूपी: इस गांव में 27 फीसदी आबादी SC, फिर भी आजादी के बाद से कभी नहीं हुआ आरक्षित

वाराणसी: वाराणसी जिले के चोलापुर विकास खंड में कैथी ग्राम का धार्मिक और सामाजिक आधार पर एक पुराना इतिहास है. यहाँ लगभग 20 विभिन्न जातियों के लोग निवास करते हैं. जिनमें 6 जातियां अनुसूचित जाति की श्रेणी में आती हैं. इन जातियों में चमार, खटीक, डोम, गोंड, धोबी और मुसहर शामिल हैं. चोलापुर विकास खंड कैथी ग्राम सभा में अनुसूचित जातियों की कुल आबादी लगभग 27 प्रतिशत के आस पास है. इतनी बड़ी संख्या में होने के बावजूद आजादी से लेकर अबतक तक और पंचायती राज व्यवस्था में आरक्षण की व्यवस्था लागू होने के बाद भी कैथी ग्राम सभा के ग्राम प्रधान के पद पर कभी भी अनुसूचित जाति के लोगों के लिए आरक्षण नही मिला. जिस कारण इस वर्ग का समुचित और वांछित कल्याण आज तक नही हो पाया.

आगामी पंचायती चुनावों में नियमानुसार कैथी ग्राम सभा के ग्राम प्रधान पद को अनुसूचित जाति के लोगों के लिए आरक्षित होना चाहिए था. लेकिन इसे अनारक्षित श्रेणी में रखा गया है. इससे कैथी ग्राम के अनुसूचित जाति के मतदाताओं में असंतोष है. इस वर्ग के लोगों ने जिलाधिकारी को ज्ञापन देकर कहा है कि कैथी को अनुसूचित जाति वर्ग के लिए आरक्षित किया जाय. 

ग्राम प्रधान समेत बाकी पदों के लिए वाराणसी जिले के रिजर्व सीटों की सूची जारी

जिससे इस वर्ग को भी गांव का नेतृत्व करने का अवसर मिले और पंचायती राज व्यवस्था का सही अर्थ में लाभ मिल सके. ज्ञापन देने वालों में प्रमुख रूप से अग्रवाला चौधरी, राज नारायण राम, विवेक गोंड, होरी कन्नौजिया, रमेश सोनकर, पवन कुमार, अभिषेक, संदीप, राजेश राम, कल्लू डोम, दिलीप आदि शामिल रहे.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें