वाराणसी पुलिस के जाल में फंसे रेमडेसिविर के दो सौदागर, वसूल रहे थे इतनी मोटी रकम

Smart News Team, Last updated: Sat, 8th May 2021, 9:22 PM IST
  • वाराणसी पुलिस ने रेमडेसिविर इंजेक्शन की कालाबाजारी करने वाले दो युवकों को गिरफ्तार किया है. कोरोना के इलाज में कारगर इस दवा को आरोपी 20 हजार रुपये में मरीज के परिजनों को बेच रहे थे. ड्रग विभाग इंजेक्शन एवं बैज नंबर के आधार पर जांच में जुटा हुआ है.
वाराणसी पुलिस के जाल में फंसे रेमडेसिविर के दो सौदागर, वसूल रहे थे इतनी मोटी रकम (सांकेतिक फोटो)

वाराणसी. कोरोना संक्रमित मरीजों के इलाज में कारगर साबित हो रही रेमडेसिविर दवा की कालाबाजारी की खबर आए दिन सुनने को मिल रही है. शनिवार को वाराणसी में पुलिस ने रेमेडिसिविर इंजेक्शन के दो सौदागरों को अपने जाल में फंसाया है. दोनों युवक कोरोना मरीज के परिजनों को रेमडेसिविर दवा बेच रहे थे. उन्होंने एक इंजेक्शन की कीमत बीस हजार रुपये लगाई थी. इसी दौरान पुलिस ने दोनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया. जिसके बाद उन्हें जेल भेज दिया गया. आरोपियों के पास से तीन इंजेक्शन, नकदी और मोबाइल फोन बरामद हुआ. ड्रग विभाग इस मामले की जांच में जुटा हुआ है.

इस वैश्विक महामारी के दौर में जहां देश के सभी राज्य संकट की स्थिति से जूझ रहे है. संक्रमित मरीज सही समय पर इलाज न मिलने के साथ ही दवाओं और ऑक्सीजन के अभाव में अपनी जान गंवा रहे है. वहीं कुछ लोग इस आपदा को अवसर में बदलने में लगे हुए है और इलाज में इस्तेमाल होने वाली दवाओं की कालाबाजारी करके लोगों से मोटी रकम वसूल रहे है. वाराणसी से एक ऐसा ही मामला सामने आया है. जहां सिगरा पुलिस ने रेमडेसिविर इंजेक्शन के दो सौदागरों को अपने शिकंजे में लिया है.

कोरोना कंट्रोल पर भड़के अखिलेश- UP CM से ना स्वास्थ्य सेवाएं संभल रहीं ना कानून

दोनों युवकों ने रेमडेसिविर इंजेक्शन को गैर प्रांत से खरीदा था. जिनकी कालाबाजारी करके वे मरीज के परिजनों से मोटी रकम वसूलने के चक्कर में थे. आरोपी एक इंजेक्शन को 20 हजार रुपये में बेच रहे थे. पुलिस को जब इसकी सूचना मिली थी, तो दोनों आरोपियों को गिरफ्तार किया गया. साथ ही उनके खिलाफ मुकदमा दर्ज करके जेल भेज दिया गया. वहीं ड्रग विभाग इंजेक्शन व बैज नंबर के आधार पर जांच में जुटा हुआ है.

कोरोना काल में एम्बुलेंस चालकों की मनमानी- वाराणसी से डाफी का किराया 3500 रूपए

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें