वाराणसी में कबाड़ की दुकान पर काटे जा रहे थे चोरी के वाहन, पुलिस ने की छापेमारी, 6 पर केस दर्ज

Mithilesh Kumar Patel, Last updated: Sun, 31st Oct 2021, 2:57 PM IST
  • वाराणसी के जैतपुरा इलाके में पुलिस द्वारा किए गए छापेमारी में चौकाघाट लोहे की कबाड़ मंडी से 21 चोरी के वाहन बरामद किए गए हैं. इन वाहनों को ट्रक का हवाला देकर काटा जा रहा था. इस वारदात में लिप्त 6 दोषी दुकानदारों पर FIR व 2 गोदाम भी सील किए गए हैं.
वाराणसी के जैतपुरा इलाके में मौजूद चौकाघाट स्थित लोहे की कबाड़ दुकान

वाराणसी. वाराणसी के जैतपुरा थानाक्षेत्र में संचालित लोहे के कबाड़ की दुकान पर छापेमारी के दौरान कई गड़बड़ियों के साथ 21 चोरी के वाहनों को ट्रक का हवाला देकर काटे जाने का मामला सामने आया है. इस वारदात को अंजाम दे रहे 6 दोषी दुकानदारों पर FIR दर्ज कराई गई है. इसके साथ ही 2 गोदाम भी सील किए गए हैं.

करीब 15 दिन पहले चोरी के वाहन कटाई के मामले में मिली शिकायत पर सहायक पुलिस आयुक्त चेतगंज-अपराध व जैतपुरा पुलिस ने चौकाघाट कबाड़ मंडी में छापेमारी की थी. इसमें खुलासा हुआ है कि लकड़ी मंडी के पास लोहे के कबाड़ की दुकान पर ट्रक काटे जाने का हवाला देकर 21 चोरी के वाहन काटे जा रहे थे. संबंधित लोहा मंडी के जांच में साक्ष्य व गड़बड़ियां पाए जाने पर चौकाघाट चौकी पुलिस ने 6 दोषी दुकानदार लक्ष्मी सिंह, बिहारी चाचा, संजय यादव, विक्रम कन्हैया लाल, लकी सरदार व अशोक सिंह के खिलाफ नामजद मुकदमा दर्ज कराया गया है. अभी भी चौकाघाट लकड़ी मंडी के निकट मौजूद लोहे के कबाड़ की कई दुकानें जांच के दायरे में हैं.  

पुलिस जांच में खुलासा हुआ है कि ट्रक के नाम पर मंडी में 11 गाड़ियां काटी गई हैं जिनका रजिस्ट्रेशन बाइक, ऑटो या अन्य वाहन के नाम पर था. इसके आलावा 10 वाहन बिना रिकॉर्ड के कबाड़ की दुकानदार से बरामद की गई है.

नीट एग्जाम: सॉल्वर गैंग के साथ उम्मीदवार भी पुलिस के रडार पर, रोका जाएगा रिजल्ट

वाराणसी कमिश्नरेट के तहत आपराधिक मामलों की निगरानी कर रहे चेतगंज सहायक पुलिस आयुक्त (DCP) अनिरुद्ध कुमार ने रविवार को बताया कि जैतपुरा के चौकाघाट कबाड़ मंडी में चोरी की गाड़ियां काटी जाने की शिकायत पर गुरुवार 21 अक्टूबर को छापेमारी की गई थी. उस दौरान दो गोदाम सील किए गए थे. इसके आलावा कबाड़ संचालक यूसुफ के दुकान को खंगालने पर उसके रजिस्टर व वाहनों में ढेर सारी गड़बड़ियां मिली थीं. अभी भी वह इलाका जांच के दायरे में है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें