वाराणसी : पासिंग परेड में 336 महिला कांस्टेबल हुई शामिल, अब UP पुलिस में संभालेंगी कमान

Mithilesh Kumar Patel, Last updated: Wed, 5th Jan 2022, 3:52 PM IST
  • वाराणसी पुलिस लाइन मैदान में बुधवार को 336 बेटियों की पासिंग परेड हुई. छह माह के कठिन ट्रेनिंग पूरी करने के बाद अब ये सभी नवनियुक्त महिला कांस्टेबल पासिंग परेड के सभी चरणों को पूरा कर लिया है. इसी के साथ अब ये महिलाएं उत्तर प्रदेश पुलिस में अपनी सेवा देने के लिए तैयार हो चुकी हैं.  
वाराणसी पुलिस लाइन मैदान में हुई पासिंग परेड

वाराणसी. उत्तर प्रदेश पुलिस में सेवा देने के लिए 336 और महिला कांस्टेबल तैयार हो चुकी हैं. बुधवार को वाराणसी पुलिस लाइन मैदान में  इन 336 महिला रिक्रूट्स आरक्षियों (भर्ती महिला कांस्टेबलों) की पासिंग परेड हुई. इस दौरान यूपी पुलिस यूनिट के वाराणसी जोन एडीजी राम कुमार ने महिला कांस्टेबलों की पासिंग परेड की सलामी ली. इस खास मौके पर वर्दी में सजी बेटियों ने बैंड के धुन पर भव्य परेड किया. इस दौरान वहां मौजूद पुलिस अफसरों का मन अपनी ओर आकर्षित कर लिया. सभी महिला कांस्टेबलों घने कोहरे और कड़ाके की ठंड के बीच अनुशासित और सधे कदमों से परेड के सभी चरणों को एक के बाद एक सफलतापूर्वक पूरा किया. इसके बाद महिला कांस्टेबलों ने परेड मैदान का चक्कर लगाया.

कांस्टेबलों की ट्रेनिंग पूरी कर सेवा में जाने से पहले पासिंग परेड में शिरकत करने वाली सभी महिला आरक्षियों को इस दौरान संबोधित एडीजी जोन राम कुमार ने कहा कि पुलिस सेवा में आने के बाद लोगों की सेवा ही मुख्य उद्देश्य होना चाहिए. उन्होंने कहा कि पुलिस को निष्पक्ष तरीके से काम करने से लेकर महिलाओं के लिए काम करने, उनके हक और अधिकारों के प्रति सजग रहना चाहिए. परेड को दौरान उन्होंने बताया कि महिला कांस्टेबलों को महिला सशक्तीकरण का विशेष प्रशिक्षण भी दिया गया है. महिला कांस्टेबलों के इस पासिंग परेड के दौरान अपर पुलिस आयुक्त सुभाष चंद्र दुबे, डीसीपी वरुणा जोन आदित्य लांग्हे, डीसीपी काशी जोन आरएस गौतम, एसीपी लाइन अवधेश पांडेय व अन्य पुलिस अफसर मौजूद रहे.

UP में भी किसानों को दी जा सकती है फ्री बिजली, विद्युत उपभोक्ता परिषद ने पेश किया ये फार्मूला

बता दें कि इन महिलाओं की नियुक्ति यूपी पुलिस में बतौर कांस्टेबल करीब 6 महिने पहले हो चुकी थी. भर्ती के बाद सेवा में जाने से पहले इन महिला कांस्टेबलों को 6 महिने की कठिन ट्रेनिंग से गुजरना पड़ता है. ट्रेनिंग पूरी करने के बाद पासिंग परेड कराया जाता है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें