वाराणसी गंगा का जलस्तर घटने से राहत, लेकिन अब लोगों के सामने आई ये परेशानियां

Smart News Team, Last updated: Sat, 14th Aug 2021, 6:03 PM IST
  • वाराणसी में गंगा का जलस्तर घटने लगा है. गंगा नदी में जलस्तर बढ़ने के कई गांवों में बाढ़ का पानी घुस गया था. जिस वजह से लोग अपने घर छोड़ कर दूसरे सुरक्षित स्थानों पर चले गए थे. किसानों की फसलों को भी भारी नुकसान हुआ है. अब जलस्तर घटने से लोगों को बाढ़ से राहत मिली है. लेकिन बाढ़ की वजह से बहकर आये शिल्ट और गाद से लोगों की परेशानियां कम नहीं हुई.
वाराणसी में बाढ़ का पानी घरों में घुसने से लोगों को काफी नुक्सान हुआ है.

वाराणसी. उत्तर प्रदेश में भारी वर्षा से गंगा नदी का जलस्तर बढ़ने लगा था. जिस वजह से तटवर्ती इलाकों में बाढ़ का पानी घुसने से लोगों को खूब परेशानियां हुई. लोगों को अपना घर छोड़कर दूसरे सुरक्षित स्थानों पर जाना पड़ा. लेकिन अब गंगा नदी का जलस्तर घटने लगा है. जिस वजह से तटवर्ती क्षेत्रों में लोगों को काफी राहत मिली है. लेकीज बाढ़ की वजह से बहकर आई शिल्ट और गाद ने लोगों की दुश्वारियां बढ़ा दी है.

उत्तर प्रदेश में लगातार हो रही बारिश की वजह से गंगा नदी में जलस्तर बढ़ता जा रहा था. गंगा नदी खतरे के निशान से ऊपर बह रही थी. कई बाढ़ग्रस्त क्षेत्रों में बिजली की कटौती भी की गई. लेकिन अब जलस्तर घटने से लोगों को राहत मिली है. लोग अपने घरों में लौटने लगे हैं. लेकिन पानी के साथ बहकर आई गाद की वजह से लोग अभी भी परेशान है. मारुति नगर गंगोत्री विहार, हरिओम नगर, रत्नाकर विहार, गायत्री नगर, सत्यम नगर के निचले क्षेत्रों में अभी भी पानी बना हुआ है. लेकी बाढ़ का पानी कम होने के बाद भी जहरीले जानवरों का खतरा भी बना हुआ है.

वाराणसी में स्ट्रीट डॉग की मौत पर मेनका गांधी का कॉल, फिर हुआ पोस्टमॉर्टम

बाढ़ग्रस्त क्षेत्रों में किसानों को भी काफी नुकसान हुआ है. फसलों में काफी समय पानी रहने की वजह से फसलें खराब हुई है. लेकिन अब गंगा का जलस्तर कम होने से लोगों को राहत जरूर मिली है. अगर बात की जाये पश्चिमी उत्तर प्रदेश की तो वहां भी नदियों में ज्यादा पानी आने से फसलो को नुक्सान हुआ है. खरीफ की फसलों में पानी खड़ा होने से फसलों के पौधों की जड़ें गल गई है. 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें