यात्री रास्ते में हाथ दें तो ड्राइवर लगाएं ब्रेक, बस नहीं रोकने पर होगी कार्रवाई

Smart News Team, Last updated: Sun, 31st Jan 2021, 8:57 AM IST
  • यूपी राज्य सड़क परिवहन निगम के प्रबंध निदेशक धीरज साहू ने यात्रियों के हाथ दिखने के बावजूद भी बस नहीं रोकने वाले चालक और परिचालक पर कार्यवाही के आदेश दिए. जिसकी मॉनिटरिंग क्षेत्रीय प्रबंधक और सहायक क्षेत्र प्रबंधक खुद करेंगे.
यात्राओं के हाथ दिखाने पर नहीं रोका बस तो चालक और परिचालक पर होगी कार्यवाही

वाराणसी. उत्तर प्रदेश सरकार अब बस नहीं रोकने वाले चालकों के ऊपर कार्यवाही करने का मन बना चुकी है. जिसके लिए यूपी राज्य परिवहन निगम के प्रबंध निदेशक धीरज साहू ने आदेश भी जारी कर दिया है. वहीं इस आदेश में साफ कहा गया है की यदि कोई परिवहन विभाग का चालक यात्रियों के हाथ देने पर अगर बीएस नहीं रोकता है तो उसपर प्रशासनिक कार्यवाही के साथ जुर्माना भी लगाया जाएगा. दरअसल सरकार ने ये फैसला प्रतिदिन चालकों के प्रति आ रही शिकायत पर लिया है. जिससे उनपर शिकंजा कसा जा सके.

आपको बता दे कि अधिकतर बस चालक सड़क किनारे यात्रियों को देखने के बावजूद भी बस को नहीं रोकते है. जिसके कारण यात्रिओं को अपने गंतव्य तक जाने के लिए साधन का इंतजार घंटो करना पड़ जाता है. जिससे उन्हें काफी परेशानी होती है और वह समय पर अपने गंतव्य पर नहीं पहुंच पाते है. जिसको लेकर परिवहन विभाग के पास रोज शिकायते आती है. जिसे देखते हुए परिवहन विभाग ने चालकों पर शिकंजा कसने के लिए परिवहन विभाग के प्रबंध निदेशक ने निर्देश जारी किया है.

यूपी बोर्ड: अब 10-12 वीं की परीक्षा होगी साल में दो बार, एग्जाम पैटर्न भी बदला

प्रबंध निदेशक ने आदेश जारी करते हुए कहा है कि यात्रियों की सुविधा का ख्याल रखना परिवहन निगम की प्राथमिकता है. साथ ही उन्होंने ने कहा है कि चालकों का रस्ते में बस नहीं रोकने की समस्या की मॉनिटरिंग खुद क्षेत्रीय प्रबंधक और सहायक क्षेत्र प्रबंधक करे.

BHU में PM मोदी के पोस्टर फूंकने पर AISA और ABVP के छात्रों में मारपीट, हंगामा

अब जो भी चालक ऐसा करता हुआ पाया जाए या चालक और परिचालक को चिन्हित करके उनके खिलाफ अनुशासनात्मक कार्यवाही करे. वहीं जब वह पहली बार ऐसा करते हुए पाए जाए तो चेतावनी, दूसरी बार में 500 जुर्माना और तीसरी बार में 1000 रुपए का जुर्माना किया जाय. साथ ही ऊपर अनुशासनात्मक कार्यवाही भी किया जाय.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें