मालिकों को डर कहीं घर के डॉगी को न हो जाए कोरोना, वैक्सीन लगवाने पशु अस्पताल पहुंच रहे लोग

Smart News Team, Last updated: 04/03/2021 04:53 PM IST
  • वाराणसी में अपने कुत्तो को कोरोना की वैक्सीन लगवाने के लिए शहरी लोग पशु चिकत्सा केंद्र पहुंच रहे. वही जिसके बाद से वैक्सीन की मांग बढ़ गई है.
मालिकों को डर कहीं घर के डॉगी को न हो जाए कोरोना, कुत्तों के वैक्सीन लगवाने पशु अस्पताल पहुंच रहे लोग

वाराणसी. वाराणसी में कुत्ता पालने वाले भी कोरोना संक्रमण से चिंतित हो गए है. वही अब उन्हें यह डर सताने लगा है कि कही उनके कुत्ते को कोरोना संक्रमण न हो जाए. जिसके बाद से कुत्तों को भी कोरोना का टीका लगवाने के लिए लोगों ने पशु चिकित्सा केंद्र पहुच रहे है. जिसके बाद से कुत्तों को होने वाला कोरोना संक्रमण की वैक्सीन की मांग बढ़ गई है. वही लोगों को डर है कि कही उनके कुत्ते को कोरोना का संक्रमण न हो जाए. जिसके बाद से ही लोग कोरोना का टीका लगवाने के लिए वहां पर पहुचने लगें है.

वही विद्यापीठ ब्लॉक के पशु चिकित्सा अधिकारी राजेश कुमार सिंह ने बताया कि कुत्तों को कोरोना संक्रमण होना कोई नई बात नहीं है. कुत्तों में कोरोना की पहचान साल 1978 में ही कर ली गई थी. जिसके बाद 2003 में इसकी वैक्सीन भी बनाई जा चुकी है. वही इस वैक्सीन की कीमत 350 रुपए से लेकर 600 रुपए तक है.

यूपी में हर रोज कोई न कोई परिवार न्याय के लिए चीख रहा है: प्रियंका गांधी

इसके साथ ही अधिकारी ने बताया कि कुत्तों में कोरोना वायरस के स्ट्रेन अलग होते है. वही इंसानों में कोरोना के स्ट्रेन एकदम अलग पाए जाते है. इसके साथ ही उन्होंने ने बताया कि मनुष्य और कुत्ते एक दूसरे को संक्रमित नहीं कर सकते है. साथ ही उन्होंने ने बताया कि कुत्तों को जब यह होता है तो इसके लक्षण के रूप में दिखाई देता है कि कुत्तों को सफेद डायरियां होने लगता है. साथ ही उन्हें उल्टी और दस्त भी होता है.

यूपी पुलिस भर्ती: छूटे अभ्यार्थियों की फिजिकल परीक्षा 20 मार्च को

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें