श्रमिक परिवारों को घूमने के लिए 12 हजार रूपए आर्थिक मदद देगी UP सरकार

Smart News Team, Last updated: Sat, 30th Jan 2021, 8:47 AM IST
  • श्रम कल्याण परिषद के अध्यक्ष सुनील भराला ने कहा कि विधानसभा, प्रदेश के मॉल एवं वाणिज्यिक प्रतिष्ठान आदि में काम करने वाले और 24 हजार रुपये तक मासिक वेतन पाने वाले श्रमिकों को उक्त तीनों योजनाओं का लाभ मिलेगा. साथ ही जिन कारखानों में पहले 20 श्रमिक काम करत थे पर अब वहां पांच श्रमिक भी काम करते हों तो उनको भी लाभ दिलाने का प्रयास किया जा रहा है.
श्रम कल्याण परिषद के अध्यक्ष सुनील भराला ने बैठक के बाद यह जानकारी दी.

वाराणसी- श्रमिक परिवारों के पर्यटन और उनके खिलाड़ी बेटों को प्रोत्साहित करने के लिए उत्तर प्रदेश सरकार आर्थिक मदद देगी. प्रदेश सरकार इसके अलावा श्रमिकों के पढ़ाई कर रहे बेटे-बेटियों को किताबें खरीदने में भी मदद की जाएगी. बताते चलें कि इन लाभों से जुड़ीं-स्वामी विवेकानंद ऐतिहासिक पर्यटन यात्रा, चेतन चौहान क्रीड़ा प्रोत्साहन और महादेवी वर्मा पुस्तक क्रय आर्थिक योजनाएं एक फरवरी से लागू हो जाएंगी. प्रदेश के डेढ़ करोड़ से अधिक श्रमिकों को इसका लाभ मिलेगा. जबकि वहीं कुछ पुरानी योजनाओं में मदद राशि बढ़ाई गई है.

श्रम कल्याण परिषद के अध्यक्ष सुनील भराला ने शुक्रवार को श्रम कल्याण परिषद की सर्किट हाउस में हुई बैठक के बाद इसकी जानकारी दी गई. पहली बार राजधानी लखनऊ के बाहर श्रम कल्याण बोर्ड की 76वीं बैठक हुई है. भराला ने कहा कि अब बोर्ड की बैठक जिलों में ही होगी ताकि श्रमिकों की समस्याओं की जानकारी लेने के साथ उनका स्थानीय स्तर पर निराकरण भी कराया जा सके. साथ ही उन्होंने कहा कि अभियान चलाकर श्रमिकों को योजनाओं की जानकारी दी जाएगी. उनका पंजीकरण कराया जाएगा. बाल श्रमिक पखवाड़ा चलाकर बाल श्रम को भी रोका जाएगा.

वाराणसी : देश की पहली ऐसी कॉलोनी जो नमामि गंगे के मानकों पर उतनी खरी

श्रम कल्याण परिषद के अध्यक्ष सुनील भराला ने कहा कि विधानसभा, प्रदेश के मॉल एवं वाणिज्यिक प्रतिष्ठान आदि में काम करने वाले और 24 हजार रुपये तक मासिक वेतन पाने वाले श्रमिकों को उक्त तीनों योजनाओं का लाभ मिलेगा. साथ ही जिन कारखानों में पहले 20 श्रमिक काम करत थे पर अब वहां पांच श्रमिक भी काम करते हों तो उनको भी लाभ दिलाने का प्रयास किया जा रहा है. इस विषय में विधानसभा में प्रस्ताव रखा गया है. इस बैठक में श्रम कल्याण परिषद के पदेन सदस्य सचिव फैसल आफताब, सदस्य राधेकृष्ण त्रिपाठी, कन्हैयालाल भारती, अजित जैन, मुराहु राजभर, कृष्ण मुरारी राजभर, मनोहर सिंह, डिप्टी लेबर कमिश्नर अमित मिश्रा, अपर श्रमायुक्त मधुर सिंह आदि मौजूद थे.

गंगा पार टेंट सिटी बसाकर काशी महोत्सव के आयोजन की तैयारी कर रहा पर्यटन विभाग

वाराणसी : पीपीपी मॉडल पर होगा मंडलीय कार्यालय का निर्माण, निविदा जारी

4 साल बाद नेपाल की जेल से रिहा कराया, यतींद्र ने मां को बेटे से मिलवाया

वाराणसी : देश की पहली ऐसी कॉलोनी जो नमामि गंगे के मानकों पर उतनी खरी

MV UP फेरी जहाज गाजीपुर के मोहम्मदाबाद के बच्छलपुर रामपुर गंगा तट से काशी रवाना

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें