यूपी पंचायत चुनाव: रिजर्वेजशन लिस्ट के बाद दावेदारों की पत्नियां लड़ेगी चुनाव

Smart News Team, Last updated: 05/03/2021 07:30 PM IST
  • पंचायत चुनाव के लिए रिजर्व सीटों की लिस्ट जारी होने के बाद कई दावेदारों के अरमानों पर पानी फिर गया है. चुनाव की तारीख से ऐलान से पहले ही वह चुनावी दौड़ से बाहर हो गए हैं. हालांकि ऐसे दावेदारों ने अभी हार नहीं मानी और अपनी पत्नी को चुनावी मैदान में उतारने की तैयारी में है.
पंचायत चुनाव के लिए रिजर्व सीटों की लिस्ट जारी कर दी गई है.

वाराणसी- पंचायत चुनाव के लिए रिजर्व सीटों की लिस्ट जारी होने के बाद कई दावेदारों के अरमानों पर पानी फिर गया है. चुनाव की तारीख से ऐलान से पहले ही वह चुनावी दौड़ से बाहर हो गए हैं. हालांकि ऐसे दावेदारों ने अभी हार नहीं मानी और अपनी पत्नी को चुनावी मैदान में उतारने की तैयारी में है. दरअसल, उन दावेदारों के लिए यह बड़ा झटका माना जा रहा है जो 5 साल चुनाव लड़ने की तैयारी कर रहे थे, लेकिन रिजर्व सीटों की सूची जारी होने के बाद सीट महिलाओं के लिए रिजर्व हो गया.

वाराणसी के रोहनिया काशी विद्यापीठ विकासखंड के सेक्टर नंबर 3 से राजेश यादव उर्फ नत्थू जिला पंचायत सदस्य की तैयारी में जुटे थे, लेकिन रिजर्वेशन लिस्ट आने के बाद सीट ओबीसी महिला के लिए रिजर्व घोषित किया गया. अब ऐसे में उन्होंने बताया कि वह अपनी पत्नी को जिला पंचायत सदस्य के लिए चुनाव लड़वाएंगे. सेक्टर नंबर 3 से ही उदय नारायण सिंह पटेल भी चुनाव की तैयारी में थे लेकिन सीट बदलने के बाद उन्होंने भी पत्नी को चुनाव मैदान में उतारने की बात कही.

आजीवन कारावास की सजा काट रहे माफिया सुभाष ठाकुर समेत तीन पर मुकदमा दर्ज

कुछ ऐसी ही कहानी कमलेश यादव की भी है. इन लाोगों का कहना है कि अब हमारी पत्नियां चुनाव लड़ेंगी. आरक्षण सूची जारी होते हैं प्रत्याशियों ने अपने अपने वोटरों को किसी को मोबाइल से तो किसी को व्हाट्सएप फेसबुक के जरिए अपने अपने संदेश देने शुरू कर दिए हैं.

वाराणसी में RTE के तहत होने वाले दाखिले में कम हुई डेढ़ हजार सीटें, जानें क्यों

वाराणसी: कस्टम विभाग ने कोयला कारोबारी के ठिकानों पर की छापेमारी

CBSE ने 10वीं-12वीं बोर्ड परीक्षा तारीख में किया बदलाव, जानें अब कब हैं एग्जाम

योगी सरकार का मास्टर प्लान, अत्याधुनिक शहरों की तर्ज पर होगा 14 शहरों का विकास

Ease of Living Index 2020: जानिए सर्वे सूची में लखनऊ, वाराणसी, कानपुर, आगरा और मेरठ को मिला कौन सा स्थान

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें