वाराणसी: सचिवालय में नौकरी दिलाने के नाम पर ठगे 7 लाख, आरोपी दिल्ली से गिरफ्तार

Somya Sri, Last updated: Fri, 8th Oct 2021, 11:45 AM IST
  • वाराणसी में सचिवालय में नौकरी दिलाने के नाम पर 7 लाख रुपये की ठगी का मामला सामने आया है. आरोपी को कमिश्नरेट की स्पेशल टीम ने दिल्ली के द्वारका इलाके से गिरफ्तार कर लिया है. जालसाज ने सचिवालय में साक्षात्कार देना होगा ऐसा कहकर कई बार राजबहादुर को दिल्ली बुलाया करता. फिर वहां अधिकारी के मौजूद न होने का झुठा बहाना बनाकर उसे वापस घर भेज देता.
वाराणसी: सचिवालय में नौकरी दिलाने के नाम पर ठगे 7 लाख, आरोपी दिल्ली से गिरफ्तार (प्रतीकात्मक तस्वीर)

वाराणसी: सचिवालय में नौकरी दिलाने के नाम पर 7 लाख रुपये की ठगी का मामला सामने आया है. आरोपी वाराणसी स्थित बीएचयू के हैदराबादी गेट के पास रेस्टोरेंट चलाता था. जिसे कमिश्नरेट की स्पेशल टीम ने दिल्ली के द्वारका इलाके से गिरफ्तार कर लिया है. जालसाज का नाम हेमंत है जो भगवानपुर निवासी राजबहादुर के 7 लाख रुपये को लौटाने में करीबन 3 साल से टालमटोल कर रहा था. हेमंत ने यह पैसे राजबहादुर से सचिवालय में नौकरी दिलाने के नाम पर लिए थे. पर 3 साल बीत जाने के बाद भी राजबहादुर को सचिवालय में नौकरी नहीं मिली.

मिली जानकारी के मुताबिक राजबहादुर और हेमंत दोनों एक दूसरे को जानते हैं. दोनों ही आजमगढ़ के रहने वाले हैं. हेमंत बीएचयू के हैदराबादी गेट के पास एक रेस्टोरेंट चलाता था. इस दौरान हेमंत ने सचिवालय में नौकरी दिलाने के नाम पर राजबहादुर से 7 लाख रुपये ठग लिए. जिसके बाद वो दिल्ली फरार हो गया. हेमंत राजबहादुर को कहता कि सचिवालय में साक्षात्कार देना होगा. ऐसा कहकर कई बार दिल्ली भी बुलाया. पर वहां पर अधिकारी के मौजूद न होने का झुठा बहाना बनाकर उसे वापस घर भेज देता.

वाराणसी: MCH विंग में OPD सेवा शुरू, महिलाओं का इलाज समेत दवा और जांच फ्री

अंततः परेशान होकर राजबहादुर ने इसकी शिकायत पुलिस में की जिसके बाद पुलिस कमिश्नर के आदेश पर 6 अक्टूबर को लंका थाने में मुकदमा दर्ज किया गया. स्पेशल टीम गठित कर दिल्ली भेजी गई. टीम ने हेमंत को द्वारिका से गिरफ्तार कर लिया है और उससे पूछताछ की जा रही है. साथ ही पुलिस को आशंका है कि इसके पीछे एक बड़े सिंडिकेट भी हो सकते हैं. पुलिस कमिश्नर ने अपील की है कि हेमंत के जरिये कुछ और लोग भी ठगी के शिकार हुए हैं तो अपना शिकायत दर्ज करा सकते हैं

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें