वाराणसी: 9.53 करोड़ रुपए खर्च, फिर भी भारत माता मंदिर पर अंधेरा

Smart News Team, Last updated: 22/11/2020 09:06 PM IST
  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपने संसदीय क्षेत्र काशी के विकास के लिए एक से एक बढ़कर पर योजनाओं को फलीभूत करने के लिए पानी की तरह पैसा बहा रहे हैं. काशी में पीएम की योजनाओं का समुचित रखरखाव न होने से धन की बर्बादी के भी नजारे दिखाई देने लगे हैं. इसमें भारत माता का मंदिर भी शामिल हो गया है.
करोड़ो खर्च होने के बाद भी भारत माता मंदिर में अंधेरा

वाराणसी. बता दें कि काशी के ऐतिहासिक भारत माता मंदिर परिसर में हृदय योजना के तहत सुंदरीकरण का कार्य कराया गया था. 2 साल पुरानी इस परियोजना के तहत मंदिर परिसर में पाथवे व हेरिटेज लाइटनिंग के लिए 9.53 करोड़ रुपए की बड़ी रकम भी सरकार ने नगर निगम के माध्यम से खर्च कराई थी. 2 साल में ही यह परियोजना मंदिर परिसर में दम तोड़ती नजर आ रही है. इसका कारण हेरिटेज लाइट का पूरी तरह खराब होना है. जहां काशी के अधिकांश ऐतिहासिक धरोहर है रोशनी से जगमगाती दिखती हैं वहीं इन दिनों भारत माता मंदिर पर रात के समय पूरी तरह अंधेरा पसरा रहता है. अंधेरे में डूबे इस मंदिर को फिर से जगमगाने के लिए अब तो नगर निगम ने भी अपने हाथ खड़े कर दिए हैं. इसके लिए नगर निगम बजट न होने की बात कह रहा है.

बताते चलें कि पूरे वाराणसी महानगर में शहरी विकास मंत्रालय की ओर से 81 हेरिटेज स्थलों पर कार्य कराए गए थे. इसी क्रम में काशी विद्यापीठ रोड स्थित ऐतिहासिक भारत माता मंदिर पर भी पाथवे व हेरिटेज लाइटनिंग का कार्य कराया गया था. 23 सितंबर 2016 को शुरू हुए इस मंदिर के सुंदरीकरण के कार्य के तहत पाथवे हेरिटेज लाइटिंग शौचालय कूड़ा दान शुद्ध पेयजल बैठने की व्यवस्था आदि कार्य कराए गए थे. 9.53 करोड़ों रुपए के सुंदरीकरण के यह कार्य 30 जून 2018 को पूरा हुआ था. सुंदरीकरण कार्य के बाद ऐतिहासिक भारत माता मंदिर की छवि देखते ही बनती थी. पिछले 2 महीने से इस मंदिर की हेरिटेज लाइटिंग व्यवस्था मृतप्राय हो गई है. 

निखिलं नवत, चरमं दशत: वैदिक सूत्र गुणनखंड करने की श्रेष्ठ विधि

मंदिर प्रशासन की ओर से लाइट व्यवस्था दोबारा दुरुस्त कराने के लिए सीएम पोर्टल पर भी शिकायत दर्ज करा जा चुकी है. यही नहीं मंदिर प्रशासन ने नगर आयुक्त को भी लाइव व्यवस्था सही कराए जाने का प्रार्थना पत्र दे रखा है. बावजूद इसके अब तक इस ओर जिम्मेदार विभागों द्वारा ध्यान नहीं दिया गया है. नगर निगम मंदिर की लाइव व्यवस्था फिर से चालू करने के लिए बजट न होने की दुहाई दे रहा है तो वही सीएम पोर्टल से भी अब तक अपेक्षित कार्रवाई अमल में नहीं लाई जा सकी है.

इस संबंध में नगर निगम आयुक्त गौरांग राठी कहते हैं कि शिकायत का निस्तारण करने के लिए उनकी अधिशासी अभियंता से टेलिफोनिक वार्ता हुई है जल्द ही शिकायत का निस्तारण करने का प्रयास किया जाएगा.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें