वाराणसी: संपत्ति बनी लालता देवी की हत्या की वजह, मुख्य आरोपी के दो सहयोगी अरेस्ट

Smart News Team, Last updated: Tue, 13th Apr 2021, 4:54 PM IST
  • 23 मार्च को मंडुवाडीह थाना क्षेत्र के शिवदासपुर लालबत्ती क्षेत्र में एक 50 वर्षीय महिला लालता देवी की हत्या हुई थी. जिसमें पुलिस ने मंगलवार को मुख्य आरोपियों के दो सहयोगी को गिरफ्तार किया है. जिन्होंने बताया कि संपत्ति के कारण मृतका की दत्तक पुत्री व दामाद के साथ मिलकर इन लोगों ने हत्या की साजिश रची.
वाराणसी: संपत्ति बनी लालता देवी की हत्या की वजह, मुख्य आरोपी के दो सहयोगी अरेस्ट (प्रतीकात्मक तस्वीर)

वाराणसी. बीते दिनों मंडुवाडीह थाना क्षेत्र के शिवदासपुर लालबत्ती क्षेत्र में लालता देवी नामक एक अधेड़ उम्र की महिला की हत्या हुई थी. इस घटना को लेकर पुलिस ने मंगलवार को एक नया खुलासा किया है. पुलिस ने हत्या के मुख्य आरोपियों का साथ देने के आरोप में अकथा, पहड़िया थाना लालपुर निवासी 21 वर्षीय अंकित कुमार सिंह और संजय नगर कॉलोनी, पहड़िया थाना लालपुर निवासी 21 वर्षीय विक्की जायसवाल को गिरफ्तार किया है. इन्हें पुलिस लाइन फ्लाई ओवर के ऊपर से कार के साथ गिरफ्तार किया गया है.

पुलिस के अनुसार दोनों आरोपियों के पास से एक टाटा जेस्ट कार बरामद हुई है. इसके अलावा हत्या के मुख्य आरोपी मृतका की दत्तक पुत्री हिना एवं दामाद राहुल अभी भी फरार है. गिरफ्तार आरोपियों ने पुलिस को बताया है कि मृतका लालता देवी की संपत्ति को हथियाने के लिए इन लोगों ने मुख्य आरोपी हिना व राहुल के साथ मिलकर इस हत्या का प्लान बनाया था.

पूर्व IPS ने श्री ब्रह्मा वेद विद्यालय यौन शोषण मामले में उठाई जांच की मांग

लालता देवी की हत्या करने के बाद इन लोगों ने शव को दरी व कंबल से लपेट कर कार में रख दिया था. जिसे किसी सुनसान जगह में फेंकने का इनका प्लान था.लेकिन तभी मृतका का भाई विजय अपनी बहन को खोजने के लिए आया. जिसे देख शव को मकान के पीछे के हिस्से में फेंककर दरवाजे में ताला लगा दिया गया. जिसके बाद उसी कार से आरोपी वहाँ से फरार हो गए.

UP पंचायत चुनाव 2021 : दूसरे चरण में 62 ग्राम प्रधान निर्विरोध निर्वाचित

बता दें कि मंडुवाडीह थाना क्षेत्र के शिवदासपुर लालबत्ती क्षेत्र में 23 मार्च की शाम को लालता देवी नामक 50 वर्षीय महिला की हत्या करके शव को उसके घर के पीछे कंबल व बेडशीट में लपेट कर रस्सी से बांध कर फेंक दिया गया था. इस घटना के बारे में जानकारी तब हुई जब मृतका के भाई एवं भाभी बिहार से मृतका के घर पर पहुंचे. लेकिन जब उन्हें लालता देवी एवं उनकी दत्तक पुत्री व दामाद नहीं मिले तो उन लोगों की खोजबीन शुरू हुई. इसी दौरान घर के पीछे कंबल में लालता देवी का शव बरामद हुआ.

कोरोना पर सपा के अखिलेश ने योगी सरकार को घेरा, कहा- सरकार लापरवाह है

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें