आयुर्वेद एमडी और एमएस की सीटें बढ़ाएगा बीएचयू

Smart News Team, Last updated: Thu, 5th Aug 2021, 2:16 PM IST
  • बनारस हिंदू विश्वविद्यालय के चिकित्सा विज्ञान संस्थान के आयुर्वेदिक संकाय में एमडी व एम एस की सीटों में वृद्धि किए जाने का निर्णय लिया गया है. विभाग वार बढ़ाने की स्वीकृति के लिए नीति योजना कमेटी की ओर से स्वीकृति प्रदान कर दी गई है.
बनारस हिंदू विश्वविद्यालय सांस्कृतिक अर्थशास्त्र पर 2 वर्षीय पोस्टग्रेजुएट कोर्स शुरू करने जा रहा है

वाराणसी. बता दें कि बीएचयू के चिकित्सा विज्ञान संस्थान मैं संस्थापक महामना पंडित मदन मोहन मालवीय ने 1922 में आयुर्वेद विभाग शुरू किया था. बाद में इस विभाग को कालेज का रूप दे दिया गया. साल 1963 में आई एम एस के आयुर्वेद संकाय में एमडी व एमएस कोर्स की शुरुआत हुई. शुरुआत में इस संकाय में एमडी व एमएस की 22 सीटें निर्धारित की गई थी जिसके एवज में 22 टीचरों को नियुक्त किया गया था. बाद में 3 सीटें और बढ़ा दी गई. साल 2009 में अन्य पिछड़ा वर्ग संवर्ग के तहत 14 सीटें और बढ़ा बढ़ा दी गई जिसकी संख्या बढ़कर 39 हो गई.

इसके पश्चात बीएचयू में आई एम एस के आयुर्वेद संकाय में साल 2020 में ईएसडब्ल्यू के तहत 11 सीटों की और वृद्धि की गई. मौजूदा समय में इस संकाय में एमडी व एमएस की कुल 50 सीटें है. जिसके सापेक्ष इस संकाय में कुल 121 टीचर कार्यरत है. टीचरों की संख्या को देखकर बीएचयू ने एक बार फिर आयुर्वेद संकाय में एमडी व एमएस की सीटें बढ़ाने का निर्णय लिया है. विश्वविद्यालय की पॉलिसी प्लैनिंग कमिटी ने भी इसके लिए स्वीकृति प्रदान कर दी है.

एमडी व एमएस की सीटों में वृद्धि के संबंध में बनारस हिंदू विश्वविद्यालय के चिकित्सा विज्ञान संस्थान के आयुर्वेद संकाय के प्रमुख प्रोफेसर बी पी सिंह ने बताया कि एमडी व एमएस की सीटें बढ़ाने के लिए पॉलिसी प्लानिंग कमेटी की ओर से हरी झंडी मिल गई है. टीचरों की संख्या को देखते हुए 13 सीटें और बढ़ाई जा सकती हैं. इसके लिए मार्च के महीने में केंद्रीय भारतीय चिकित्सा परिषद की टीम दौरा करेगी. बाद इसके सीट वृद्धि पर अंतिम मोहर लगेगी.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें