BHU गेट पर भगत सिंह छात्र मोर्चा का बेरोजगारी पर ताली, थाली, शंख बजाकर प्रदर्शन

Smart News Team, Last updated: 05/09/2020 09:34 PM IST
  • वाराणसी में बढ़ते बेरोजगारी को लेकर भगत सिंह छात्र मोर्चा की ओर से BHU के सिंहद्वार पर प्रदर्शन किया गया. प्रदर्शन कर रहे छात्रों ने ताली, थाली और शंख बजाकर सरकार के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया.
लंका BHU गेट पर प्रदर्शन करते भगत सिंह छात्र मोर्चा के सदस्य

वाराणसी. शहर में बढ़ती बेरोजगारी को लेकर वाराणसी में भगत सिंह छात्र मोर्चा की ओर से BHU गेट पर थाली, घंटी और शंख बचाकर विरोध प्रदर्शन किया गया. प्रदर्शनकारियों ने बताया कि वाराणसी में ताली, थाली का इस्तेमाल करते हुए रोजगार पर बढ़ते हमलों के खिलाफ प्रदर्शन किया जा रहा है. यह विरोध प्रदर्शन लंका गेट,बीएचयू पर किया गया. भगतसिंह छात्र मोर्चा की तरफ से नीतीश ने इस प्रदर्शन में सभा का संचालन किया.

वाराणसी के SSP अमित पाठक ने देर रात चौकी प्रभारी हटाए, करी दूसरी जगह तैनाती

छात्रों ने अपनी बात रखते हुए बताया कि लंबे समय से देश के अंदर बेरोजगारी बढ़ती जा रही है, लेक़िन सरकार इस ओर बिल्कुल ध्यान नहीं दे रही है. ऊपर से रेलवे और दूसरे अन्य सार्वजानिक उपक्रमों का तेजी ने निजीकरण किया जा रहा है. उन्होंने कहा कि रेलवे जो अकेला 14 लाख युवाओं को रोजगार देता था उसको भी बेचा जा रहा है. SSC न ही नियमित बहाली कर रही न है समय से परीक्षा ले रही है. हालत ऐसी है की 2017 वाली वैकेंसी भी अभी तक लटका हुआ है. इस लॉकडाउन में करोड़ो लोगों ने अपनी नौकरियों से हाथ धो दिया है. देश में 65% युवा आबादी है लेक़िन अधिकतर के पास रोजगार नहीं है. 

लखनऊ: समाजवादी पार्टी ने घोषित किए वाराणसी-कानपुर समेत 7 जिलों के प्रदेशाध्यक्ष

आगे अपने संबोधन में उन्होंने कहा कि आज युवाओं के पास सड़क पर उठकर अपने हक और अधिकार की लड़ाई लड़ने के अलावा कोई दूसरा चारा नहीं है. आज स्पष्ट तौर पर देखा जा सकता है कि सरकार से मांग करने वाले चाहे वह छात्र हों, किसान हो या मजदूर हो अपनी बुनियादी मांगों को लेकर जहां भी इकट्ठे होते हैं सरकार उनसे बात करने के बजाए पुलिसिया बर्बरता के तले उनकी आवाज को दबाने का काम कर रही है. इस विरोध प्रदर्शन में राहुल, शुभम, नीतीश, आशुतोष, दीपक, सुमित, कबीर, पवन, शशांक, अर्चना, अमन, पवन आदि लगभग 50 छात्र- छात्राएं शामिल हुए.                 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें