वाराणसी: अभियुक्तों को अरेस्ट करने गई चोलापुर पुलिस, विरोध के बाद खाली हाथ लौटी

Smart News Team, Last updated: 24/08/2020 08:41 PM IST
  • यूपी के वाराणसी में चोलापुर पुलिस को हाजीपुर दलित बस्ती में जानलेवा हमले के आरोपियों पकड़ना भारी पड़ गया.बस्ती लोगों ने पुलिस का घेराव कर आरोपी को तो छुड़ा ही लिया और पुलिस के साथ बदसलूकी भी की. सोश्यल साइट्स पर वीडियो वाइरल होने के बाद अब पुलिस की जमकर किरकिरी हो रही है.
प्रतीकात्मक तस्वीर 

यूपी के वाराणसी में चोलापुर पुलिस को हाजीपुर दलित बस्ती में जानलेवा हमले के आरोपियों पकड़ना भारी पड़ गया.बस्ती लोगों ने पुलिस का घेराव कर आरोपी को तो छुड़ा ही लिया और पुलिस के साथ बदसलूकी भी की. सोश्यल साइट्स पर वीडियो वाइरल होने के बाद अब पुलिस की जमकर किरकिरी हो रही है.

स्टोरी-उत्तर प्रदेश के वाराणसी में इन दिनों पुलिस की जमकर किरकिरी हो रही है.पूरा मामला दानगंज के हाजीपुर गांव का है जहां पर हमले के आरोपियों की गिरफ्तारी करने पहुंची चोलापुर पुलिस को ग्रामीणों ने घेराव कर बैरंग लौटने पर मजबूर कर दिया.चर्चा तो यह भी है कि पुलिस जवानों के साथ महिलाओं और पुरूषोंं ने मारपीट भी की. अब सोश्यल साइट्स पर वीडियो वाइरल होने के बाद पुलिस अधिकारियों की किरकिरी हो रही है. जानकारी मिली है कि तीन दिन पहले भी हाजीपुर में बंजर जमीन खाली करवाने गई पुलिस और राजस्व टीम को ग्रामीणों के विरोध के बाद भी खाली हाथ लौटना पड़ा था.

दरअसल दानगंज पुलिस चौकी इलाके के लखनपुर गांव में 15 अगस्त को चकरोड को लेकर दो पक्षों में विवाद हो गया था. हाजीपुर निवासी भाजो ने लखनपुर निवासी राजकुमार राम को इतनी बेरहमी से पीटा की उसका हाथ तोड़ दिया.पुलिस ने आधा दर्जन लोगों के खिलाफ कई धाराओं में मामला दर्ज किया था. पुलिस आरोपियों को गिरफ्तार करने के लिए हाजीपुर दलित बस्ती पहुंची तो वहां मौजूद बस्ती के सैकड़ों महिला-पुरूषों ने पुलिस का घेराव कर दिया. और पूछताछ के लिए हिरासत में लिए गए एक युवक को छुड़ा लिया. दलित बस्ती के लोगों का आरोप है कि पुलिस बदमाशों को गिरफ्तार करने की जगह पड़ोसियों के घर में घुसकर महिलाओं और बच्चों के साथ मारपीट की. और जबरदस्ती पड़ोस के दूसरे युवक को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया था.

थानाधिकारी कुलदीप दूबे ने बताया कि दबिश देने गयी पुलिस पर दबाव बनाने और अभियुक्त को भगाने के लिए बस्ती वालों ने ऐसा किया था. वीडियो में लोगों की पहचान कर विभिन्न धाराओं में मुकदमा दर्ज करवाया जाएगा. किसी ने भी पुलिस जवानों के साथ मारपीट नहीं की है.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें