वाराणसी: बीएचयू हॉस्पिटल से गायब युवक का मिला शव, परिजनों ने किया हंगामा

Smart News Team, Last updated: 24/08/2020 10:53 PM IST
  • वाराणसी. बीएचयू के सुपरस्पेशिलिटी अस्पताल से रविवार को अजय भारती के लापता होने की परिजनों को मिली थी खबर. सोमवार की शाम अस्पताल के ही पिछले हिस्से में मिला शव. परिजनों ने किया हंगामा.
अस्पताल के बाहर मृतक के परिजनों ने किया प्रदर्शन

वाराणसी. कोरोना काल में बीएचयू हॉस्पिटल अपना गरिमा खोता जा रहा है. आए दिन यहाँ अनियमिता की बात सामने आ रही है. बीते रविवार को बीएचयू के सुपरस्पेशिलिटी अस्पताल से लापता हुए 25 वर्षीय अजय भारती का शव सोमवार को अस्पताल के ही पिछले में ही मिली है. पुलिस ने परिजनों से शव का शिनाख्त कराया तो शव अजय की ही थी. अजय का शव मिलते ही परिजनों ने हंगामा शुरू कर दिया. जिसको देखते हुए मौके पर पुलिस फोर्स तैनात कर दिया गया है.

दरअसल वाराणसी के डाफी का रहने वाला अजय 12 अगस्त को बीएचयू में ही एक हादसे में बुरी तरह घायल हो गया था. उसे इलाज के लिए बीएचयू के ही ट्रामा सेंटर में भर्ती कराया गया था. जब उसका कोरोना टेस्ट हुआ तो 15 अगस्त को पॉजिटिव रिपोर्ट आया. जिसके बाद उसे बीएचयू सुपर स्पेशलिटी हॉस्पिटल में बने कोरोना वार्ड में भर्ती करा दिया. जहाँ उसका इलाज चल रहा था.

इसी दौरान रविवार को बीएचयू से उसके परिजनों को बताया गया कि अजय अस्पताल से भाग गया है. इस पर परिजनों ने यह कहते हुए हंगामा खड़ा कर दिया कि रविवार के दोपहर में ही अजय से उन लोगों की बातचीत हुई है. उनक कहना था कि हम लोग अस्पताल के बाहर ही चौबीसों घंटे बैठे हैं तो वह भाग कैसे सकता है. परिजनों ने लंका थाने में इस घटना की शिकायत करते हुए सीसीटीवी फुटेज जाँच कराने की मांग की. लंका पुलिस जांच के लिए बीएचयू पहुंची लेकिन वहाँ अजय का कोई खास सुराग नहीं मिल सका.

अजय के परिजन सोमवार की सुबह भी अस्पताल पहुंच गए और हंगामा किया. इसी बीच देर शाम उन्हें बताया गया कि अजय की लाश अस्पताल के पिछले हिस्से में मिली है. यह सुनते ही परिजनों में कोहराम मच गया. लाश मिलने की जानकारी पुलिस को भी दी गई. पुलिस ने अजय के परिजनों को बुलाकर लाश की शिनाख्त कराई.

शिनाख्त के दौरान परिजनों ने कमर के पास कटे का निशान देखा. जिस पर किडनी निकालने का आरोप लगाते हुए परिजनों ने फिर हंगामा शुरू कर दिया. अजय के भाई मोनू ने आरोप लगाया कि उसके पास मोबाइल जो मोबाइल था, वह गायब है. पिता छविनाथ, मां ममता, बहनों के साथ ही गांव से आए लोगों का हंगामा बढ़ता देख और पुलिस बुला ली गई. 

मौके पर एडीएम सिटी और एसपी सिटी पहुंचे
अस्पताल के बाहर मृतक के परिजनों ने किया प्रदर्शन
आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें