वाराणसी डीएम का आदेश- सभी चिन्हित जर्जर मकानों को एक हफ्ते में किया जाए ध्वस्त

Smart News Team, Last updated: Tue, 1st Jun 2021, 8:52 PM IST
  • काशी विश्वनाथ कॉरिडोर हादसे के बाद वाराणसी के डीएम ने आदेश दिया है कि शहर में जितने भी चिन्हित जर्जर मकान है सभी को एक हफ्ते में ध्वस्त किया जाए.
वाराणसी डीएम का आदेश तोड़े जाएं जर्जर मकान

वाराणसी में काशी विश्वनाथ कॉरिडोर के लिए स्वीकृत गोयनका छात्रावास का एक हिस्सा गिर गया. इस हादसे में दो मजदूरों की मौत हो गई. हादसे के बाद जिला के डीएम ने नगर आयुक्त को पत्र लिखकर पूरे शहर में चिन्हित मकानों को एक हफ्ते में तोड़ने का आदेश दिया है. बता दें कि यह घटना मंगलवार सुबह 4 बजे की है. 

जानकारी के अनुसार शहर में पहले ही मकानों की जांच कर उसे ध्वस्त करने का निर्णय लिया गया था. इस विषय में मकान के मालिकों को सूचित भी किया गया था. डीएम ने नगर निगम से कहा है कि सभी मकान के स्वामियों को इस बात की सूचना दी जाए और भवन को अपने लागत से ध्वस्त काराया जाए. किस परिस्थिति में यह नहीं हो पाता है तो नगर निगम खुद ही मकान ध्वस्त करवाएं और इसका जो भी  खर्च होगा वह  मकान के मालिकों से वसूला जाए.

काशी विश्वनाथ गोयनका छात्रावास हादसे में मृतकों को 5 लाख और घायल को 50 हजार रुपए मिलेंगे

बता दें कि डीएम ने नगर निगम को आदेश दिया है कि अबतक जितने लोगों को नोटिस नहीं भेजा गया है उन्हें दो दिनों के समय में मकान को ध्वस्त करने का नोटिस दिया जाए. नगरनिगम को डीएम ने कड़े शब्दों में कहा है कि इस पूरे काम को एक हफ्ते के अंदर खत्म किया जाए. इतना ही नहीं डीएम ने नगर निगम से जिन लोगों को नोटिस भेजे गए हैं और जिनको नहीं भेजे गए हैं इसका रिपोर्ट भी मांगा है. 

वाराणसी में पानी भरने की समस्या का हल शुरू, नालों की सफाई में लगा नगर निगम

नगर निगम की रिपोर्ट के हिसाब से शहर के पांच जोन को मिलाकर कुल 298 मकान ऐसे हैं जो बिल्कुल जर्रजर है कभी भी गिर सकता है. नगर निगम द्वारा भेजे गए नोटिस के बावजूद भी लोग मकान खाली नहीं कर रहे हैं और मकानों की स्थिति ऐसी है कि वह कभी भी गिर सकता है. वाराणसी काशी विश्वनाथ कॉरिडोर हादसे में बंगाल के रहने वाले दो मजदूरों की मौत हो गई, जबकि आठ लोग घायल हो गए.

 शासन की ओर से मृतकों के परिजनों को 5-5 लाख की राहत राशि, कार्यदायी संस्था की ओर से 3-3 लाख और मंदिर प्रशासन की ओर से 2-2 लाख रुपये की सहायता राशि देने के फैसला किया गया है. इसके अलावा घायलों को 50 हजार रुपए दिए जाने की भी घोषणा की गई है.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें