वाराणसी : डबल मर्डर के चश्मदीद को हनी ट्रैप में फंसाने की साजिश

Smart News Team, Last updated: Tue, 8th Sep 2020, 8:56 AM IST
  • समझौते के लिए बाध्य करने की नीयत से एक महिला ने दर्ज कराया रेप का झूठा केस. महिला सहित कुल आधा दर्जन से अधिक लोगों पर पुलिस ने दर्ज किया केस.
वाराणसी डबल मर्डर केस 

वाराणसी में हाल ही में हुए डबल मर्डर के एक चश्मदीद गवाह को हनी ट्रैप में फंसाने की साजिश का खुलासा हुआ है. एक महिला द्वारा चश्मदीद पर रेप का झूठा मुकदमा दर्ज कराकर फंसाने की साजिश को पुलिस ने नाकाम कर दिया.

दरअसल, वाराणसी के पिशाच मोचन के पुरोहित सुमित उपाध्याय के खिलाफ एक महिला ने चेतगंज थाने में रेप का मुकदमा दर्ज कराया था. पुलिस ने सुमित सहित एक अज्ञात के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया. जब पुलिस मामले की जांच में जुटी तो मामला कुछ और ही निकला. सुमित के साथ साथ महिला के व्हाट्सअप चैट और बाकी जानकारी से पता चला कि मामला झूठा है और पैसे ऐंठने के लिए झूठा मुकदमा दर्ज कराया गया. साथ ही पुलिस को यह भी पता चला कि सुमित अपने माता-पिता की हत्या का चश्मदीद गवाह है, जिसमें उसके माता-पिता की गोली मारकर निर्मम हत्या कर दी गई थी. मृतक के के उपाध्याय के छोटे भाई राजेंद्र, उसकी पत्नी, बेटे और अन्य करीबी जेल में बंद हैं.

वाराणसी पुलिस को सुमित के माता-पिता की हत्या और सारे पक्ष की जांच करने के बाद पता चला कि सुमित पर लगाए गए सारे आरोप गलत हैं और माता-पिता की हत्या के मामले में समझौते के लिए बाध्य करने के लिए उस पर रेप का फर्जी मुकदमा दर्ज कराया गया है.

फिलहाल मामले के संदिग्ध होने कारण पुलिस के आला अधिकारी कुछ कहने को तैयार नहीं हैं. इस मामले में महिला सहित कुल आधा दर्जन से अधिक लोगों पर मुकदमा दर्ज किया गया है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें