वाराणसी: अभियंता चंद्रेश उपाध्याय और मजदूर संगठन के पदाधिकारियों के बीच मारपीट

Smart News Team, Last updated: 15/08/2020 01:17 PM IST
  • जांच कमेटी गठित कर होगी पूरे प्रकरण की जांच. मजदूर संगठन अपने विभिन्न मांगों को लेकर चंद्रेश उपाध्याय से गया था मिलने. विद्युत अभियंता पर विद्युत मजदूर संगठन की मांगों के प्रपत्र को फाड़ने का आरोप
प्रतीकात्मक तस्वीर 

वाराणसी। वाराणसी में नगरीय विद्युत वितरण मंडल प्रथम के चतुर्थ खंड के अधिशासी अभियंता कार्यालय में शुक्रवार को जमकर हंगामा हुआ. अधिशासी अभियंता चंद्रेश उपाध्याय और विद्युत मजदूर संगठन के पदाधिकारियों के बीच मारपीट और गाली-गलौज हुई. घटना के बाद दोनों पक्ष एमडी कार्यालय पहुंचे और शिकायती पत्र सौंपा. कार्यालय में करीब घंटे भर अफरातफरी का माहौल रहा.

अधिशासी अभियंता चंद्रेश उपाध्याय के मुताबिक विद्युत मजदूर संगठन के पदाधिकारी अपनी समस्याओं को लेकर आये थे. कोरोना संकट को देखते हुए केवल पांच लोगों को बुलाया गया था, लेकिन डेढ़ सौ लोग पहुंचे थे. आपत्ति जताने पर शोर-शराबा करने लगे. गाली-गलौज के बाद हाथापाई पर उतारू हो गये.

उधर संगठन के पूर्वांचल अध्यक्ष इंद्रेश राय का कहना है कि अभद्र व्यवहार अधिशासी अभियंता के तरफ से किया गया.

उन्होंने पदाधिकारियों से अभद्र व्यवहार किया. मारपीट की धमकी दी. वार्ता के दस्तावेज फाड़ दिये. बताया कि संविदा कर्मियों के संबंध में वार्ता प्रस्तावित थी. जब पदाधिकारी पहुंचे, उसके पहले ही दफ्तर में अवांछनीय तत्व बैठे थे.

पदाधिकारियों ने विरोध किया तो गाली-गलौज शुरू कर दी. वार्ता के कागज भी फाड़ दिये. इसके बाद पदाधिकारी और कार्यकर्ता नाराज हुए और नारेबाजी करने लगे. कई संविदा कर्मचारियों को नौकरी से निकालने, वेतन काटने, ईपीएफ में फर्म के साथ मिलकर घोटाला आदि मुद्दों पर वार्ता होनी थी.

पहले एमडी के बालाजी को फोन से जानकारी दी गई. इसके बाद दोनों पक्षों को भिखारीपुर स्थित कार्यालय बुलाया गया. अधिशासी अभियंता ने बताया कि पूरे घटनाक्रम के साथ शिकायत की गई है. वीडियो फुटेज भी सौंपे गये हैं.

उधर संगठन के पदाधिकारी इंद्रेश राय ने बताया कि प्रबंध निदेशक ने फोन कर पूरे मामले की जानकारी ली. दफ्तर बुलाया और सारी समस्याओं के निराकरण की बात कही.

एमडी का कहना है कि विद्युत मजदूर संगठन के पदाधिकारियों की ओर से प्रकरण की जानकारी दी गई है. अभियंता संघ की ओर से पूरी जानकारी लिखित में दिये जाने के बाद जांच के लिए कमेटी गठित की जाएगी. पूरे प्रकरण की जांच की जाएगी.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें