सफाई कर्मचारी फोटोग्राफी करते रहे, जावेद ने गंगा में मिले शव दफनाए

Smart News Team, Last updated: Thu, 13th May 2021, 8:36 PM IST
  • वाराणसी के रामनगर इलाके में सुजाबाद के अवधूत राम श्मशान घाट पर गंगा में मिले आधा दर्जन से ज्यादा शवों को इलाके के मोहम्मद जावेद ने दफनाया. इस काम के लिए तैनात सरकारी सफाई कर्मचारी पीपीई किट पहनकर फोटोग्राफी करते नजर आए.
वाराणसी में गंगा से निकले शवों को जावेद ने दफनाया, सफाई कर्मी वीडियो बनाते रहे.

वाराणसी. बनारस के सुजाबाद इलाके में गंगा में तैरते मिले कोरोना मरीजों के शवों के अंतिम संस्कार के दौरान हिंदू-मुसलमान एकता की मिसाल दिखी. प्रशासन ने जिन सफाई कर्मचारियों को पीपीई किट पहनाकर गंगा में मिले शवों का अंतिम संस्कार करने का काम दिया था वो मोबाइल फोन लेकर फोटो और वीडियो बनाने में बिजी रहे. ज्यादातर शवों का अंतिम संस्कार इलाके के मोहम्मद जावेद ने किया जिसकी तारीफ प्रशासन से लेकर इलाके के लोग कर रहे हैं.

रामगनर के सुजाबाद इलाके में अवधूत राम श्मशान घाट के पास प्रशासन को 7 शव मिले थे. जिला प्रशासन ने इन शवों को निकालने और अंतिम संस्कार के लिए काशी विद्यापीठ ब्लॉक के आधा दर्जन सफाई कर्मचारियों की ड्यूटी लगाई थी. लेकिन मौके पर ये सफाई कर्मचारी बाबू साहेब बनकर फोटोग्राफी करते रहे जबकि शव निकालने से लेकर उसे दफनाने तक का काम मोहम्मद जावेद ने किया. मानवता पर संकट के इस दौर में लाशों से आ रही दुर्गंध भी जावेद को उसके काम से डिगा नहीं पाए. 

बिहार में बक्सर के बाद अब पटना में गंगा में तैरते दिखे कोरोना मृतकों के शव

जावेद सुजाबाद इलाके के ही एक गरीब परिवार का लड़का है जिसकी रोजी-रोटी मजदूरी से चलती है. कोरोना लॉकडाउन के बाद से काम नहीं मिलने के कारण उसने श्मशान घाट पर ही वाहन से घाट तक लकड़ियां पहुंचाने का काम शुरू कर दिया. इसके बदले उसे कुछ रुपए मिल जाते थे जिससे घर में चूल्हा चल जाता था. गुरुवार को जब प्रशासन के सामने गंगा में तैर रहे शवों का सम्मान के साथ अंतिम संस्कार करने की चुनौती थी तब सरकार के सफाई कर्मचारी के बदले जावेद काम आया. प्रशासन के लोग भी जावेद की तत्परता और लगन की तारीफ कर रहे थे. प्रशासन के लोगों ने जावेद को इस काम के बदले अनौपचारिक आर्थिक सहायता भी दी.  

बाहुबली मुख्तार अंसारी ने जेल में ही दी कोरोना को मात, कोविड रिपोर्ट आई नेगेटिव

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें