वाराणसी गोडाउन फायर: करोड़ों का माल जला, बदहवास मैनेजर रोता रहा, सब खाक हो गया

Smart News Team, Last updated: Sat, 10th Jul 2021, 11:26 PM IST
  • वाराणसी की एक ट्रांसपोर्ट कंपनी के गोदाम में भीषण आग लगने से करोड़ों रुपयों का माल जलकर खाक हो गया. इतनी बड़ी तबाही को देखकर कंपनी के मैनेजर भी भावुक हो गए और बिलख कर रो पड़े.
वाराणसी गोडाउन फायर: करोड़ों का माल जला, बदहवास मैनेजर रोता रहा, सब खाक हो गया

वाराणसी की एक ट्रांसपोर्ट कंपनी के गोदाम में भयानक आग लगने से करोड़ों का माल जलकर खाक हो गया. हादसा इतना बड़ा था कि अपने सामने जलते हुए गोदाम को देखकर कंपनी मैनेजर सचिन सूरी बदहवाश से हो गए. मौके पर पहुंचे दूसरे ट्रांसपोर्टरों ने सचिन को ढांढस बंधाया तो वे बिलख-बिलख कर रो पड़े. आग इतनी भीषण लगी कि घंटों कड़ी मशक्कत के बाद भाी दमकल इसपर काबू नहीं कर पाया. आग की वजह से पूरे इलाके में हड़कंप मचा रहा.

मैनेजर समेत कई लोग घायल

शनिवार की शाम लगभग साढ़े 4 बजे मडुवाडीह थानाक्षेत्र के चांदपुर इलाके में बनी राजधानी इंटरस्टेट ट्रांसपोर्ट कंपनी गोदाम में शार्ट-सर्किट से आग लगी. इस दौरान कंपनी में ऑफिस स्टाफ, लेबर, ड्राइवरों, कारोबारियों समेत करीब 40 लोग मौजूद थे. हड़कंप के बीच मैनेजर सचिन सूरी भी सीढ़ियों से गिर गए और घायल हो गए. इसके साथ ही एक स्टाफ मेंबर भी घायल हो गया. आग के बीच ही आनन-फानन में लेबरों ने बाहर रखे करीब 200 साल्वेंट केमिकल के ड्रमों को बाहर निकाला.

वाराणसी: ट्रांसपोर्ट गोदाम में लगी भयानक आग, करोड़ों का नुकसान

आसमान पर छाया करोड़ों का धुआं

इतना भारी नुकसान होने के बाद मैनेजर का एक रो पड़ना लाजिमी है. आग इतनी भयानक थी कि आसमान को आग की लपटों से निकले काले धुएं ने घेर लिया. ये सब होता देख कंपनी के मैनेजर सचिन सूरी की हालत खराब हो गई और वहां आए ट्रांसपोर्टरों से मिलकर रोते हुए कहने लगे सब बर्बाद हो गया.

सड़क पर बचाओ-बचाओ चिल्लाने वाली दुल्हन निकली सेक्स रैकेट संचालिका, जानें मामला

दमकल के काबू से बाहर आग, आसपास के लोग घरों से बाहर निकले

जिस समय आग लगी उस समय गोदाम में कपड़े की गांठे, केमिकल भरे ड्रम, दवाइयां, ऑयल, प्लास्टिक समेत कई सामान मौजूद था जो जलकर खाक हो गया. सूचना मिलते ही दमकल की गाड़ियां पहुंची और कई घंटों तक आग बुझाने की कोशिश की. आग बेहद विकराल रूप ले चुकी थी. गोदाम से सटे घरों में लोगों का दम घुटने लगा और वे घरों से बाहर निकल गए.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें