वाराणसी सर्राफा बाजार में सोना हुआ सस्ता चांदी रही स्थिर, आज का मंडी भाव

Smart News Team, Last updated: Mon, 22nd Mar 2021, 9:21 AM IST
  • वाराणसी सर्राफा बाजार में 22 मार्च को सोने के भाव में कमी आने से लोगों के चहरों पर खुशी झलकने लगी है. चांदी के भाव स्थिर रहे. 22 मार्च को सोने की कीमत 50 रुपए प्रति दस ग्राम तक गिर गई जबकि चांदी के रेट में स्थिरता दर्ज की गई.
22 मार्च को सोने व चांदी के भाव

वाराणसी में सोने के भाव में कमी व चांदी में दर्ज हुई 22 मार्च को स्थिरता.

सोने की डिमांड कम होने से वाराणसी सर्राफा बाजार में भाव गिर गए हैं. वहीं चांदी की कीमत में स्थिरता देखने को मिली. 22 मार्च को 24 कैरेट सोने की कीमत 50 रुपए प्रति दस ग्राम तक गिर गई जबकि चांदी के रेट स्थिर रहने से कारोबारी परेशान दिखाई दिए.

वाराणसी सर्राफा बाजार में आज सोने के भाव गिरावट के साथ खुले. जबकि चांदी 67500 पर रही. 24 कैरेट गोल्ड का भाव 50 रुपए प्रति 10 ग्राम गिरकर 48390 रुपए पर खुला. चांदी में प्रति किलो स्थिरता दर्ज की गई. सब्जी के दाम लगातार बढ़ रहे हैं जिससे टमाटर, प्याज आम लोगों की पकड़ से दूर होता जा रहा है.

24 कैरेट गोल्ड का रेट 48390 रुपए तोला पर खुला. चांदी 67500 रुपए प्रति किलोग्राम के दाम पर खुला है. शाम में सोना और चांदी किस रेट पर बंद होते हैं, इस पर निवेशकों की भी नजर बनी हुई है. इसी तरह से 22 कैरेट गोल्ड के दाम गिर जाने से ग्राहकों के चेहरे पर खुशी देखने को मिली. 22 कैरेट गोल्ड का दाम 10 रुपए प्रति दस ग्राम गिर गए है जिससे उसकी कीमत 44390 रुपए हो गई है. वहीं इन कीमतों से सर्राफा बाज़ार में बेचैनी देखने को मिल रही है.

मंडी में आज के थोक व फुटकर भाव कुछ इस प्रकार है

टमाटर - 48 से 52 रुपए किलो

अरबी - 32 से 32 रुपए किलो

भिन्डी - 20 से 21 रुपए किलो

पत्ता गोभी - 23 से 26 रुपए किलो

फूल गोभी - 26 से 29 रुपए किलो

ग्वार फली - 50 से 54 रुपए किलो

चायना खीरा - 28 से 33 रुपए किलो

देशी खीरा - 23 से 25 रुपए किलो

टिन्डा - 42 से 45 रुपए किलो

नीम्बू - 35 से 40 रुपए किलो

बैगन - 22 से 24 रुपए किलो

मूली - 21 से 25 रुपए किलो

कद्दू - 20 से 25 रुपए किलो

शिमला मिर्च - 60 से 65 रुपए किलो

मिर्च - 50 से 55 रुपए किलो

लौकी - 18 से 22 रुपए किलो

धनिया - 30 से 35 रुपए किलो

चुकन्दर - 32 से 36 रुपए किलो

पालक - 22 से 24 रुपए किलो

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें