BHU के होस्टल में कैंप लगाकर रह रहे JNU स्टूडेंट्स को कैंप हटाने के लिए 24 घंटे का अल्टीमेटम

Somya Sri, Last updated: Tue, 31st Aug 2021, 12:52 PM IST
  • बीएचयू के हॉस्टल में जेएनयू के छात्र अवैध तरीके से रह रहे है. बीएचयू परिसर को जब इसकी जानकारी मिली तो उन्होंने जेएनयू के छात्र को 24 घंटे का अल्टीमेटम दिया है. 24 घंटे के अंदर में छात्र अगर बीएचयू होस्टल छोड़ कर नहीं जाते हैं तो उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई होगी.
बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी (फाइल फोटो)

वाराणसी: वाराणसी के बनारस हिंदू यूनिवर्सिटी के हॉस्टल में जेएनयू के छात्रों के अवैध डेरा की खबर है. बताया जा रहा है कि बीएचयू के हॉस्टल में जेएनयू के छात्र अवैध तरीके से रह रहे है. बीएचयू परिसर को जब इसकी जानकारी मिली तो उन्होंने जेएनयू के छात्र को 24 घंटे का अल्टीमेटम दिया है. 24 घंटे के अंदर में छात्र अगर बीएचयू होस्टल छोड़ कर नहीं जाते हैं तो उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई होगी.

दरअसल, सोमवार को बीएचयू होस्टल में रह रहे जेएनयू के छात्र की पुष्टि तब हुई जब वे परिसर से बाहर निकालने के लिए बीएचयू के नदिया गेट पर पहुंचे. जहां गार्ड ने दो दृष्टिबाधित छात्रों को रोका क्योंकि बीएचयू के सुरक्षाकर्मियों को सख्त निर्देश दिया गया है कि वह दृष्टिबाधित छात्रों को कैंपस से बाहर निकलने नहीं दे सकते हैं. जब सुरक्षाकर्मियों ने इन छात्रों को रोका तो उसने पाया कि एक छात्र जेएनयू का है. जो बीएचयू के हॉस्टल में रह रहा था और हॉस्टल में अवैध रूप से डेरा जमाए हुए हैं. जानकारी के मुताबिक जेएनयू का छात्र दुर्गाकुंड स्थित हनुमान प्रसाद पोद्दार अंध विद्यालय के छात्रों के धरना- प्रदर्शन को संचालित भी कर रहा था.

अगर आप भी करते हैं ऐसी ऐप्स का इस्तेमाल तो हो जाएं सावधान, 1 सितंबर से गूगल कर रहा ब्लॉक

जब इसकी सूचना यूनिवर्सिटी प्रशासन को मिली तब उन्होंने बीएचयू हॉस्टल में रह रहे बीएचयू के छात्रों को ही नोटिस जारी कर कहा कि अवैध रूप से रहने वाले जेएनयू के छात्रों को वे स्वयं बाहर कर दें. उन्होंने कहा कि औचक निरीक्षण में अगर आदेश का उल्लंघन पाया जाता है तो आवंटी छात्र का होस्टल आवंटन भी तत्काल रद्द कर दिया जाएगा और उसके कमरे में रह रहे जेएनयू छात्र के खिलाफ भी कानूनी कार्रवाई की जाएगी. फिलहाल विश्वविद्यालय प्रशासन ने जेएनयू के छात्रों को 24 घंटे का अल्टीमेटम देकर बीएचयू होस्टल छोड़ने को कहा है.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें