काशी विश्वनाथ के पूर्व महंत डॉ तिवारी का अनशन खत्म, मंडलायुक्त से मिला आश्वासन

Smart News Team, Last updated: Tue, 2nd Feb 2021, 12:53 PM IST
 काशी विश्वनाथ मंदिर के पूर्व महंत कुलपति तिवारी ने मंडलायुक्त दीपक अग्रवाल और मुख्य कार्यपालक अधिकारी सुनील वर्मा के आश्वासन के बाद अपने अनशन पर विराम लगा दिया है. पूर्व मंहत 26 जनवरी से काशी विश्वनाथ मंदिर से जुड़ी परंपराओं के भविष्य के लिए अनशन कर रहे थे.
काशी विश्वनाथ मंदिर के पूर्व महंत कुलपति तिवारी ने आश्वासन के बाद अनशन को दिया विराम. ( सांकेतिक फोटो )

वाराणसी: काशी विश्वनाथ मंदिर के पूर्व महंत कुलपति तिवारी ने 15 दिनों में मामले सुलझाने का आश्वासन मिलने के बाद अपने अनशन को विराम दे दिया. मंडलायुक्त दीपक अग्रवाल और मुख्य कार्यपालक अधिकारी सुनील वर्मा ने मंहत को आश्वासन दिया है. दोनों अधिकारियों ने काशी विश्वनाथ मंदिर से जुड़ी परंपराओं को भविष्य में बनाये रखने का आश्वासन दिया है.

सोमवार की शाम करीब साढ़े छह बजे कमिश्नर और सीईओ पूर्व महंत से मिलने उनके आवास पर पहुंचे थे. दोनों अधिकारियों ने आश्वस्त किया कि 15 दिन में इस मामले में कार्यवाही पूरी कर ली जाएगी. डा. कुलपति तिवारी ने कहा कि प्रशासन के जिम्मेदार अधिकारियों के आश्वासन पर अनशन को विराम दे रहा हूं. अगर समस्या का समाधान नहीं हुआ, तो मेरे लिए अनशन का विकल्प खुला हुआ है. पूर्व मंहत ने मंडलायुक्त के हाथो अनार का रस पीकर अनशन को विराम दिया.

वाराणसी : बनारस रंग महोत्सव में तिब्बत आजादी की दिखी छटपटाहट

बता दें, कि डा. तिवारी ने अपने टेढ़ीनीम स्थित आवास पर 26 जनवरी को प्रात नौ बजे से अनशन आरंभ कर दिया था. उनके अनशन के समर्थन में बिहार, झारखंड, राजस्थान, मध्यप्रदेश, राजस्थान से उनके अनशन के समर्थन में महिलाओं-पुरुषों ने सूर्योदय से सूर्यास्त तक दैनिक उपवास आरंभ कर दिया था. अनशन के छठे दिन दोपहर में उनकी सेहत में गिरावट दर्ज की गई. स्वास्थ्य परीक्षण के लिए डा. डीपी. सिंह के नेतृत्व चिकित्सकों की टीम दोपहर को उनके आवास पहुंची. अत्याधुनिक उपकरणों से कुछ अन्य प्रकार की जांच भी की. टीम ने डा. तिवारी की नेत्रहीन धर्मपत्नी का स्वास्थ्य परीक्षण भी किया.

वाराणसी : अब मीटर रीडरों को भी जमा कराया जा सकेगा बिजली बिल

वाराणसी: डबल रेल लाइन निर्माण के चलते 2 फरवरी तक छपरा इंटरसिटी ट्रेन निरस्त

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें