क्राइम लीला: किडनैपिंग की, FIR के बाद छोड़ा, समझौता कर लिया, अब मांगे 25 लाख

Smart News Team, Last updated: Thu, 24th Dec 2020, 6:25 PM IST
  • वाराणसी में पहले बदमाशों ने एक शख्स का अपहरण कर लिया जिसके बाद पुलिस तक मामला पहुंचने के बाद पीड़ित को छोड़ दिया गया. इस दौरान पुलिस ने समझौता भी करा दिया. लेकिन इसके बावजूद किडनैपर्स ने एक बार फिर पीड़ित से 25 लाख रुपये की फिरौती मांगनी शुरू कर दी. पुलिस-प्रशासन से मदद ना मिलने के बाद पीड़ित कोर्ट पहुंचा. अदालत के आदेश पर पुलिस ने मामले में केस दर्ज किया है.
क्राइम लीला: किडनैपिंग की, FIR के बाद छोड़ा, समझौता कर लिया, अब मांगे 25 लाख

वाराणसी. उत्तर प्रदेश के बनारस जिले से एक हैरान कर देने वाली खबर सामने आई है जहां एक शख्स का अपहरण कर लिया गया. जब पुलिस तक मामला पहुंचा और जांच शुरू हुई तो आरोपियों ने पीड़ित को छोड़ दिया. पुलिस ने पीड़ित पक्ष को सुलह का दबाव दिया जिसे उन्होंने मजबूरन मंजूर कर लिया. लेकिन कुछ ही दिनों बाद अपहरणकर्ताओं ने पीड़ित से 25 लाख रुपये की रकम की मांग शुरू कर दी. कहीं पर सुनवाई ना होने पर पीड़ित ने कोर्ट का सहारा लिया. अब अदालत के आदेश पर पुलिस ने केस दर्ज कर लिया है और मामले की जांच शुरू कर दी है.

मिली जानकारी के अनुसार, करीब 4 महीने पहले जंसा थाना क्षेत्र के बेलौड़ी गांव निवासी संतलाल पटेल के पुत्र रंजीत पटेल का सचिन पाल पुत्र कृपा शंकर पाल अपने साथियों के साथ मिलकर अपहरण कर लिया था. रंजीत के पिता ने इस बाबत जंसा थाने में शिकायत दी. पुलिस जब सक्रिय हुई तो आरोपियों ने रंजीत को छोड़ दिया. इस दौरान पुलिस ने रंजीत के पिता से आरोपियों के साथ सुलह का दबाव बनाया और मामला रफा-दफा कर दिया.

बिना FASTag वाहनों के रजिस्ट्रेशन पर रोक, आरटीओ ने जारी किए नए नियम

हालांकि, कुछ ही दिनों बाद सचिन पाल ने रंजीत पटेल को फोन कर 25 लाख रुपये की फिरौती की मांग शुरू कर दी. पीड़ित ने थाने से लेकर पुलिस के आला-अधिकारियों तक मदद की गुहार लगाई लेकिन कहीं से कोई सहायता नहीं मिली. परेशान होकर पीड़ित ने कोर्ट का सहारा लिया. कोर्ट ने मामले को संज्ञान में लेते हुए आरोपी के खिलाफ156(3) के तहत मुकदमा दर्ज कर मामले की जांच का आदेश दिया. फिलहाल पुलिस ने केस दर्ज कर लिया है और मामले की जांच कर रही है.

पति ने होटल में रेड मारकर आशिक संग रंगरेलियां मनाती बीवी को रंगे हाथ पकड़ा

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें