बच्चे को किडनैप कर भाग रहे थे, रेलवे क्रासिंग पर कार रूकी तो कूद कर भागा बच्चा

Smart News Team, Last updated: 16/09/2020 08:51 AM IST
  • अपहरण किया गया चौथी कक्षा का छात्र आजम उर्फ सलमान बलिया के पास अपहरणकर्ताओं के खुद को छुड़ाकर भाग निकला. अपहरणकर्ताओं की गाड़ी बैरिया थाना क्षेत्र के सुरेमनपुर के पास रेलवे क्रासिंग के बंद होने से रूकी. इसी बीच किसी तरह सलमान गाड़ी से नीचे उतर शोर मचाने लगा.
बच्चा अपने पिता के साथ

वाराणसी. वाराणसी से अपहरण किया गया चौथी कक्षा का छात्र आजम उर्फ सलमान बलिया के पास अपहरणकर्ताओं से खुद को छुड़ाकर भाग निकला. गांव वालों की सूचना पर पहुंची पुलिस बच्चे को अपने साथ थाने ले गई. बच्चे से पूछताछ के बाद परिजनों को बुलाया गया और बच्चा उन्हें सौंप दिया गया. रेवती पुलिस ने इस मामले में बताया कि सफी अहमद जो मूल रूप से जौनपुर के जलालपुर थाना क्षेत्र के उदपुर के निवासी हैं और अब वाराणसी के टकटकपुर, पांडेपुर में रहते हैं. वहीं उनका बेटा आजम खां उर्फ सलमान सिटी कांवेंट स्कूल में कक्षा चार में पढ़ता है.

वाराणसी: समोसा छानने के लिए रखे खौलते तेल की कड़ाही में गिरने से बच्ची की मौत

 सलमान सोमवार की सुबह करीब छह बजे घर के पास ही खेल रहा था. इसी दौरान स्कार्पियो से आए कुछ लोग उसे उठाकर साथ लेते गए. आगे गाड़ी बैरिया थाना क्षेत्र के सुरेमनपुर के पास रेलवे क्रासिंग के बंद होने से रूकी. इसी बीच किसी तरह सलमान गाड़ी से नीचे उतर शोर मचाने लगा. ऐसे में पकड़े जाने के डर से स्कार्पियों सवार वहां से फरार हो गए. अब अकेला सलमान घुमते हुए रेवती थाना क्षेत्र के श्रीनगर गांव के पास पहुंच गया जहां लोगों ने अनजान अकेले बच्चे को देखकर उससे बातचीत कर पुलिस को सूचना दी. सूचना पर एसओ रेवती प्रवीण सिंह पहुंचे और बच्चे को लेकर थाने आए. बालक से पूछताछ के बाद उसके परिजनों को सूचना दी गई और पिता के हवाले कर दिया गया.

वाराणसी में पालतू कुत्तों का रजिस्ट्रेशन अनिवार्य, पंजीकरण नहीं तो जुर्माना

अहपरण के चंगुल से छूटे आजम के अनुसार वह घर से कुछ दूरी पर था तभी सफेद रंग की गाड़ी में कुछ लोग आए और जबरदस्ती उसे गाड़ी में बैठा लिया. इसके बाद गाड़ी दिनभर चलती रही लेकिन एक जगह रेलवे क्रासिंग बंद होने से गाड़ी रूकी. आजम ने बताया कि जो लोग उसका हाथ पकड़े थे वो मोबाइल पर बात करने में व्यस्त हो गए. तभी गाड़ी का दरवाजा खोलकर नीचे उतर शोर मचाने लगा. वहां से भागते हुए श्रीनगर गांव पहुंच गया जहां गांव वालों ने मुझसे पूछताछ की और पुलिस को सूचना दी. इस मामले में एसओ प्रवीण सिंह ने बताया कि बच्चे से पूछताछ के आधार पर जौनपुर के पराउगंज पुलिस चौकी को खबर की गई. वहां से मंगलवार को बच्चे के पिता रेवती थाने पहुंचे और आपरेशन मुस्कान के तहत आवश्यक कार्यवाही कर बालक को पिता को सौंप दिया गया.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें