वाराणसी: कोरोना के चलते बीएड प्रवेश परीक्षा में शिक्षकों की कमी से संकट

Smart News Team, Last updated: 09/08/2020 12:05 AM IST
  • बीएड एंट्रेंस एग्जाम में कोरोना महामारी के चलते शिक्षक ड्यूटी करने से कतरा रहे हैं. वाराणसी में बीएड संयुक्त प्रवेश परीक्षा के लिए बने 109 केंद्रों पर 39177 परीक्षार्थी शामिल होंगे. शासन के निर्देशानुसार ड्यूटी में तैनात सभी शिक्षकों को परीक्षा में ड्यूटी करनी होगी.
कोरोना के चलते बीएड संयुक्त प्रवेश परीक्षा में शिक्षकों की कमी से गहराय

वाराणसी। लखनऊ विश्वविद्यालय की ओर से आयोजित होने वाली बीएड संयुक्त प्रवेश परीक्षा में कोरोना महामारी के चलते शिक्षक ड्यूटी करने से कतरा रहे हैं. 9 अगस्त को होने वाली बीएड संयुक्त प्रवेश परीक्षा में कक्ष निरीक्षकों की कमी साफ नजर आ रही है. प्रवेश परीक्षा को लेकर शुक्रवार को महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ व बीएचयू में अलग-अलग बैठक बुलाई गई. बैठक में केंद्राध्यक्षो पर्यवेक्षकों व कक्ष निरीक्षकों की कमी का मुद्दा उठा. कोरोना महामारी के चलते वाराणसी के यूपी कॉलेज, अग्रसेन कन्या पीजी कॉलेज व हरिश्चंद्र पीजी कॉलेज आदि विद्यालयों के तमाम शिक्षकों ने परीक्षा में ड्यूटी करने से इंकार कर दिया.

बीएड संयुक्त प्रवेश परीक्षा वाराणसी : 109 केंद्रों पर 39177 परीक्षार्थी होंगे शामिल

वाराणसी जिले में 9 अगस्त को आयोजित हो रही बीएड संयुक्त प्रवेश परीक्षा के लिए 109 केंद्र बनाए गए हैं. इन केंद्रों पर 39177 परीक्षार्थी परीक्षा में शामिल होंगे.

इसमें काशी विद्यापीठ नोडल केंद्र से 64 व बीएचयू नोडल केंद्र से 45 सेंटरों को शामिल किया गया है. परीक्षा दो पालियों में आयोजित की गई है. पहली पाली की परीक्षा सुबह 9 से दोपहर 12 बजे तक जबकि दूसरी पाली की परीक्षा दोपहर बाद 2 बजे से 5 बजे तक होगी.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें