वाराणसी: प्रेमिका का खर्चा पूरा करने और खुश करने के लिए प्रेमी बन गया डंपर चोर

Smart News Team, Last updated: Fri, 25th Dec 2020, 7:59 PM IST
  • आरोपी युवक ने प्रेमिका के खर्चे पूरे करने के लिए बनाई डंपर चोरी की योजना. चोरी की योजना में सफल होने के बाद भी कड़ी मशक्कत के बाद चढ़ा पुलिस के हत्थे. डंपर को ढाबे पर खड़ी देख चोर को खाना खाते समय पुलिस ने धर दबोचा
डंपर चोर

वाराणसी: मिर्जामुराद क्षेत्र के खोचवां गांव में एक युवक ने अपनी प्रेमिका के खर्चे पूरे करने के लिए खुद ही बन गया चोर. इतना ही नही चोर ने बड़े ही शातिर अंदाज में इस वारदात को अंजाम देने की योजना बनाई. पूरा मामला खोचवां गांव स्तिथ जीआर कंपनी द्वारा बनाये गए कैंप कार्यालय के सामने का है. जहा मंगलवार की रात को एक चोर खड़ी डंपर को चुराकर फरार हो गया. मौके पर पहुंचे मालिक ने देखा कि डंपर संख्या यूपी 66/टी/9559 गायब है तो इसकी सूचना कांटेक्टर मालिक भोपाल सिंह ने तुरंत मिर्जामुराद थाना प्रभारी सुनील दत्त दूबे को दी.

वहीं चोरी की सूचना मिलते ही पुलिस हरकत में आ गई और कंट्रोल रूम को सूचना देते हुए पूरे बॉर्डर को सील कर दिया और मौके पर जाकर छानबीन की. चारो तरफ नाकाबंदी होने के बाद डंपर चोर ट्रक को लेकर इधर-उधर भागने के फिराक में था. फिल्मिया अंदाज में चोर आगे- आगे तो पुलिस पीछे पीछे पूरे क्षेत्र में दौड़ लगाती हुई नजर आयी.

बॉर्डर सील होने के चलते जब चोर गाड़ी लेकर निकलने में कामयाब नहीं हुआ तो दो घंटे बाद डंपर चोर क्षेत्र के चित्रसेनपुर स्थित एक ढाबे पर डंपर को खड़ाकर खाना खाने लगा. तभी पुलिस चोरी हुए डंपर को ढाबे पर खड़ी देख चोर को खाना खाते समय धर दबोचा.

थाना प्रभारी ने बताया कि पकड़ा गया चोर अजीत यादव रजनी खंड शारदा नगर लखनऊ कैंट का रहने वाला है. वह पिछले 2 दिन पहले भैसा क्रासिंग पर गेटमैन के रूप में नियुक्त अपने भाई के माध्यम से उनके यहां ड्राइवरी करने आया था. लेकिन ट्रायल देकर वापस चला गया और रात को चोरी की घटना को अंजाम दे दिया. फिलहाल पुलिस ने पकड़े गए चोर के खिलाफ धारा 379 व 411 के तहत मुकदमा पंजीकृत कर जेल भेज दिया है.

इस पूरे मामले पर थाना प्रभारी का कहना है कि अभियुक्त पूर्व में आशियाना थाने में वाहन चोरी में जेल जा चुका हैं. आरोपी ने अपनी प्रेमिका के खर्च को पूरा करने के लिए डंपर चोरी करके लखनऊ बेंचने की योजना बनाई थी. जिसे गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें