वाराणसी:एक लाख से अधिक लोगों ने हनुमान चालीसा पढ़कर बनाया गिनीज बुक आफ वर्ल्ड में रिकॉर्ड

Smart News Team, Last updated: 16/08/2020 09:03 PM IST
  • सिलिकॉन आंध्रा के सौजन्य से विश्व कल्याण व कोरोना संकट से मुक्ति के लिए आयोजित हुआ हनुमान चालीसा पाठ. कार्यक्रम में भारत और अमेरीका सहित दुनिया भर के 50 से अधिक देशों के लोगों ने लिया भाग.
गिनीज बुक आफ वर्ल्ड रिकॉर्ड

वाराणसी- कोरोना काल में लोग समय का अलग अलग तरीके से सदुपयोग कर रहे हैं इसके अलावा ऑनलाइन कार्यक्रम को तेजी से बढ़ावा मिला है. इससे ना केवल बच्चे, युवा बल्कि बुजुर्गों को भी स्मार्टफोन ने हाईटेक कर दिया है.

इसी क्रम में रविवार को हिंदू धर्म को मानने वाले श्रद्धालुओं ने नया कीर्तिमान स्थापित कर दिया. इस कीर्तिमान को स्थापित करने में सबसे बड़ा योगदान बुजुर्गों का रहा.

एक लाख से अधिक लोगों ने शनिवार को हनुमान चालीसा का ऑनलाइन पाठ कर नया रिकॉर्ड बनाया. यह कार्यक्रम सिलिकॉन आंध्रा के सौजन्य से विश्व के कल्याण और कोरोना संकट से मुक्ति के लिए आयोजित किया गया था.

कार्यक्रम में काशी से संकटमोचन मंदिर के महंत प्रो. विश्वंभरनाथ मिश्र और प्रयागराज के बड़े हनुमान मंदिर के महंत आनंद गिरी ने भी भाग लिया. हनुमान चालीसा के पाठ के बाद प्राप्त दानराशि का उपयोग कुचीपुड़ी में सिलिकॉन आंध्रा संजीवनी अस्पताल में होगा. यह अस्पताल ग्रामीण क्षेत्रों में गरीब लोगों की नि:स्वार्थ सेवा करता है.

गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड्स ने इसे अधिकांश लोगों के साथ ऑनलाइन बातचीत के रूप में सम्मानित करने की घोषणा की है.

सिलिकॉन आंध्रा के चेयरमैन आनंद कुचीबोटला ने बताया कि यह उनका 10वां गिनीज बुक रिकॉर्ड है.

लगभग एक दशक पहले उन्होंने पहला गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड हासिल किया था. तब 1.60 लाख से अधिक लोगों ने सिकंदराबाद में अन्नामाचार्य संकीर्तन किया था. उसके बाद संगठन ने कई कीर्तिमान स्थापित किए.

कार्यक्रम में भारत और अमेंरीका सहित दुनिया भर के 50 से अधिक देशों के लोगों ने भाग लिया. इस मौके पर केंद्रीय जल मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत, केंद्रीय गृह राज्य मंत्री जी. किशन रेड्डी, सुशील पंडित (कश्मीर कार्यकर्ता) ने लोगों को संबोधित किया. सिलिकॉन आंध्रा के दिलीप कोंडीपर्ती, राजू चामर्थी, साई कंडुला, प्रिया तनुगुला, राव तल्लाप्रगडा, अशोक बद्दी व हरि आदि ने कार्यक्रम संयोजन में सहयोग किया.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें