मुन्ना बजरंगी के गुर्गे मेराज अहमद को शरण देने वाला उसका भांजा गिरफ्तार

Smart News Team, Last updated: Sun, 27th Sep 2020, 9:59 PM IST
फर्जी तथ्यों के आधार पर कई पुलिस स्टेशनों से आर्म्स लाइसेंस बनवाने के कारण मुन्ना बजरंगी गैंग के गुर्गे मेराज भाई फरार है. उसे शरण देने के देने के लिए वाराणसी पुलिस ने उसके गैंगस्टर भांजे को गिरफ्तार किया है.
वाराणसी पुलिस ने जिले के मुन्ना बजरंगी गैंग के फरार गुर्गे मेराज अहमद को सहयोग और शरण देने के लिए उसके गैंगस्टर भांजे को गिरफ्तार किया है.

वाराणसी. रविवार को वाराणसी पुलिस ने जिले के मुन्ना बजरंगी गैंग के फरार गुर्गे मेराज अहमद को सहयोग और शरण देने के लिए उसके गैंगस्टर भांजे को गिरफ्तार किया है. दरअसल मेराज भाई ने फर्जी दस्तावेज के आधार पर कई पुलिस स्टेशनों से हथियार रखने की एवज में लाइसेंस बनवा लिए थे. जिसके कारण उस पर जैतपुरा और कैंट थाने में मुकदमा दर्ज हुआ था.

जानकारी के अनुसार इंटरस्टेट गैंग आईएस 233 के गैंग लीडर मुन्ना बजरंगी के सूचीबद्ध सदस्य और इंटरस्टेट गैंग आईएस 191के लीडर मुख्तार अंसारी के सहयोगी और फरार अपराधी महेन थाना करीमुद्दीनपुर गाजीपुर गांव के रहने वाले मेराज अहमद (भाई मेराज) पुत्र जलालुद्दीन के द्वारा तथ्यों को छुपाकर फर्जी दस्तावेज के आधार पर विभिन्न पुलिस स्टेशनों से कई आर्म्स लाइसेंस बनवा लिए गए थे.जिसके कारण उस पर जैतपुरा थाना और कैंट थाने में मुकदमा दर्ज हुआ था.

मुगलसराय थाने की वसूली लिस्ट सोशल मीडिया पर वायरल होने से हड़कंप, जांच के आदेश

इसके बाद पुलिस ने रविवार को फरार अपराधी भाई मेराज को सहयोग और शरण देने के कारण उसके भांजे परवेज अहमद को भी गिरफ्तार किया है.आपको बता दें कि गिरफ्तार परवेज अहमद भी कैंट थाने के मजारिया का हिस्ट्रीशीटर है. इसके खिलाफ वाराणसी जौनपुर के कई थानों में 2 दर्जन से अधिक मामले दर्ज हैं.

BHU अस्पताल में लापारवाही की हद, एक और कोरोना मरीज गायब

वाराणसी पुलिस की रिपोर्ट के बाद जिलाधिकारी द्वारा भाई मेराज के 9 आर्म्स लाइसेंसों को निलंबित कर दिया गया है

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें