वाराणसी: नवविवाहिता ने लगाई फांसी, घरवालों ने लगाया दहेज प्रताड़ना का आरोप

Smart News Team, Last updated: 19/09/2020 09:55 AM IST
  • वाराणसी के बिरोदपुर इलाके में शीतल ने शुक्रवार की सुबह फांसी लगाकर जान दे दी. शीतल की शादी अंकित से इसी साल 25 जून को हुई थी. लड़की के पिता संतोष सिंह, मां संध्या और दादा राजेंद्र सिंह ने कहा कि अंकित के घरवाले उनकी बेटी को प्रताड़ित करते थे. 
मृतक शीतल (22) की शादी के दौरान की फोटो

वाराणसी. बनारस में भेलूपुर थाने के बिरोदपुर इलाके में रहने वाली 22 वर्षीय शीतल ने शुक्रवार की सुबह फांसी लगाकर जान दे दी. शीतल के पति अंकित ने जब यह देखा तो उसने तुरंत इसकी जानकारी पुलिस को दी.  मौके पर पुलिस और फील्ड की टीम ने पहुंचते शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है.अंकित ने सबसे पहले शव को देखा है तो उसने पूछताछ में बताया कि शीतल के साथ सुबह  तक वह ही बेड रूम ही था.  वह इसके बाद उठकर दूसरे कमरे में चला गया. 

कुछ देर बाद मैं वापस आया तो उसे साड़ी का फंदा बनाकर पंखे में लटका हुआ पाया. अपनी पोती की मौत पर उसके दादा राजेंद्र सिंह, पिता और मां ने मौके पर पहुंचते ही पुलिस को बताया कि एक दिन पहले ही अंकित हमारे पास फोन करके कह रहा था कि शीतल को समझाओ. शीतल के पिता संतोष सिंह, मां संध्या और दादा राजेंद्र सिंह ने कहा कि अंकित के घरवाले उसकी बेटी को प्रताड़ित करते थे. 

BJP नेता का शव बनारस गाय घाट पर मिला, कैंसर के इलाज के लिए BHU में थे भर्ती

इन सब बातों को देखते हुए 22 वर्षीय शीतल के दादा राजेंद्र सिंह ने पति अंकित, सांस, देवर और मामा के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 304 बी दहेज मृत्यु से संबंधित, 498 ए के तहत मुकदमा दर्ज करवाया है. इस पर सीओ भेलूपुर चक्रपाणी त्रिपाठी ने कहा कि मामले की जांच कर आगे की कार्रवाई की जाएगी.

वाराणसी में विवाहिता ने लगाई फांसी, पिता ने कहा दहेज के लिए हुई हत्या

रोहनिया थाना क्षेत्र के भदवढ़ गांव में रहने वाले अंकित के पिता किसान राजेश तीन भाई है. तीनों भाईयों ने मिलकर यहां तीन मंजिला मकान बनवा रखा है. इन सभी के परिवार वाले सबसे नीचे के मंजील पर रहते हैं ऊपर के बची तीनों मंजिल पर किराए पर दी हुई है. अंकित से शीतल की शादी इसी साल 25 जून को हुई को हुई थी और उसके बाद से वह अपने पति, जेठ गोपाल और उसकी पत्नी छाया और सास प्रतिभा के साथ बिरादपुर में रहती थी. ससुर राजेश अपने सबसे छोटे बेटे किसन (लल्लू) के साथ गांव में रहते हैं.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें