वाराणसी: छह महीने बाद फिर खुला सारनाथ, पहले ही दिन 72 पर्यटक पहुंचे

Smart News Team, Last updated: Tue, 8th Sep 2020, 11:16 AM IST
  • वाराणसी के पास स्थित सारनाथ अब 6 महीने बाद एक बार फिर खुल गया है. पहले ही दिन सारनाथ में 72 पर्यटक पहुंचे. अनलॉक 4 के नियमों के साथ सारनाथ को पर्यटकों के लिए खोला गया. 
वाराणसी: छह महीने बाद फिर खुला सारनाथ, पहले ही दिन 72 पर्यटक पहुंचे

वाराणसी. वाराणसी के पास स्थित सारनाथ पर्यटकों के लिए खुल गया है. देशभर में अनलॉक 4 की प्रक्रिया शुरू हुई. इसी के तहत सारनाथ को भी पर्यटकों के लिए खोल दिया गया है. 6 महीने से लॉकडाउन के कारण बंद पड़े सारनाथ के खुलते ही पहले ही दिन 72 पर्यटक पहुंचे. कोविड महामारी के कारण 6 महीने पहले शुरू हुए लॉकडाउन में सारनाथ को भी बंद कर दिया गया था. माना जाता है कि सारनाथ में गौतम बुद्ध ने पहली बार 'धर्म ’की शिक्षा दी थी.

गौरतलब हो की कोरोना के प्रकोप के बाद, सारनाथ में पुरातात्विक उत्खनन स्थल परिसर, संग्रहालय और चौखंडी स्तूप परिसर 17 मार्च को बंद कर दिए गए थे. भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआई) के एक वरिष्ठ अधिकारी, सारनाथ सर्कल, ने कहा कि इस संबंध में वाराणसी के जिला मजिस्ट्रेट के एक आदेश के बाद अंतरराष्ट्रीय पर्यटन स्थल को पर्यटकों के लिए खोल दिया गया.

खत्म हुआ इंतजार, 21 सितंबर से खुलेगा ताज महल और आगरा किला

इसी के साथ अनलॉक 4 के तहत सारनाथ में खुदाई परिसर सुबह 10 से शाम 5 बजे तक खुलेगा. साथ ही लोगों को अनलॉक के नियमों का पालन करना होगा. केवल मास्क पहने पर्यटकों को ही परिसर में एंट्री दी जाएगी. एंट्री से पहले, प्रत्येक पर्यटक को थर्मल स्कैनिंग से गुजरना होगा. एएसआई अधिकारी ने आगे कहा कि पर्यटकों के लिए इसे खोलने से पहले परिसर को सैनेटाइज भी किया गया था.

वाराणसी: सरकारी राशन दुकानों पर मिली गड़बड़ी, लाइसेंस निलंबित, एक कोटेदार फरार

पर्यटकों को प्रवेश टिकट के लिए ऑनलाइन भुगतान करना होगा. इसके लिए, क्यूआर कोड और वेबसाइट के लिंक को मुख्य द्वार पर चिपकाया गया है. सोशल डिस्टेंसिंग सुनिश्चित करने के लिए, मंडलियों को चिह्नित किया गया था. पुरातात्विक उत्खनन स्थल परिसर एएसआई द्वारा संरक्षित है. अधिकारी ने कहा कि सारनाथ संग्रहालय और चौखंडी स्तूप कुछ समय के लिए बंद रहेंगे. सारनाथ के पुरातात्विक स्थलों को चरणबद्ध तरीके से खोला जा रहा था.

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें