वाराणसी: खाड़ी देशों सहित नब्बे फीसदी विश्व में बनारस की मिर्च व सब्जियों की माँग

Smart News Team, Last updated: 04/10/2020 09:23 PM IST
  • इसके लिए अभियान चलाकर किसानों को प्रशिक्षित किया जा रहा है व उनको ऑर्गेनिक खेती के लिए प्रेरित किया जा रहा है.
प्रतीकात्मक तस्वीर

वाराणसी: बनारस व आसपास जिलों में पैदा की जाने वाली पतली व तीखी हरी मिर्च दुनिया के करीब नब्बे फीसदी देशों में अपने स्वाद की धूम मचा रही है. इसके अलावा बनारस व आसपास क्षेत्र की पैदावार गोल भंटा, सेम, लौकी, खीरा की भी बहुत माँग है. वहीं, खाड़ी व यूरोपियन देशों में पूर्वांचल के मटर की जबर्दस्त मांग है. दरअसल पेरिशेबल कार्गो सेंटर की स्थापना के बाद पूर्वांचल धीरे-धीरे फलों व सब्जियों के निर्यात का हब बनता जा रहा है.

मिठाई दुकानदार की पिटाई करना पड़ा चौकी इंचार्ज को भारी, व्यापारियों का बवाल

बनारस समेत पूर्वांचल के आसपास के जिलों की फल व सब्जियों के निर्यात के लिए यूपी सरकार के माध्यम से वेजिटेबल एंड फ्रूट्स एक्सपोर्ट एसोसिएशन और कृषि एवं खाद्य उत्पाद निर्यात विकास प्राधिकरण के बीच समझौता हुआ था. इसके बाद बीते साल पहली बार 15 टन हरी मिर्च का निर्यात किया गया था. अब वेजिटेबल एंड फ्रूट्स एक्सपोर्ट एसोसिएशन के माध्यम से दुबई, ओमान, जर्मनी, कतर व यूके से 350 टन हरी मिर्च का आर्डर मिला है.

एसोसिएशन के निदेशक डॉ. राम कुमार राय के अनुसार दुनिया के 90 फीसद देशों में पूर्वांचल की हरी मिर्च धूम मचा रही है. माँग अनुरूप निर्यात को बढ़ावा देने के लिए किसानों को अभियान चलाकर आर्गेनिक खाद से सब्जियों की खेती के लिए प्रोत्साहित व प्रशिक्षित किया जा रहा है.हरी मिर्च के अलावा कई देशों से सेम व मटर का भी ऑर्डर मिला है.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें