नम्बर प्लेट बदलकर चल रहा था बालू खनन का अवैध धंधा, पुलिस ने 12 ट्रक सीज किए

Smart News Team, Last updated: 19/09/2020 05:30 PM IST
वाराणसी में पुलिस ने 12 ट्रकों को पकड़ा जो कार्रवाई से बचने के लिए नंबर बदलकर बालू ढुलाई कर रहे थे. ये ट्रक नियम के खिलाफ ओवरढुलाई भी कर रहे थे. 
पुलिस ने 12 ट्रकों को अपनी गिरफ्त में लिया.

वाराणसी. वाराणसी में एक मामला सामने आया है जिसमें ट्रक मालिक पुलिस और फाइनेंस कंपनी को चकमा दे रहे थे. ट्रक मालिक कार्रवाई से बचने के लिए फर्जी नंबर प्लेट लगाकर बालू की ढुलाई करा रहे थे. देर रात पुलिस ने घेराबंदी करके भिखारीपुर से 12 ट्रकों को पकड़ लिया है. 

ट्रक मालिकों का फर्जीवाड़ा उस समय सामने आया जब देर रात एसएसपी के आदेश पर एसएसआई राजेश त्रिपाठी ने जांच की. एसएसआई ने प्रतिबिंधत रास्ते में घुसे ट्रकों को रोककर जांच की तो उनके होश उड़ गए. किसी भी ट्रक चालक के पास सही दस्तेवाज नहीं थे. ट्रक के दस्तेवाज और नंबर प्लेट के नंबर अलग-अलग थे. राजेश त्रिपाठी ने भिखारीपुर में घेराबंदी करके 12 ट्रकों को पकड़ लिया है. ट्रकों के पकड़ने के बाद कई नेताओं के भी फोन आए लेकिन ट्रक पुलिस की गिरफ्त में ही रहे.

बनारस में मरने के तीन दिन बाद गांव-गांव भटकने पर बंजारा औरत को कब्र मिली

एसएसआई राजेश त्रिपाठी ने कहा कि ट्रक चालक सरकार को दोहरी चपत लगा रहे हैं. टैक्स की चोरी के साथ सड़क भी ध्वस्त हो रही हैं. कार्रवाई से बचने के लिए ट्रक चालक सरेआम अफसरों की आंखों में धूल झोंक रहे हैं. ट्रक की नंबर प्लेट पर कालिख और मिट्टी लगाकर या फिर प्लेट के उपर दूसरी नंबर प्लेट लगाकर रजिस्ट्रेशन नंबर छुपाया जाता है. वाहन चालक ओवरढुलाई करने से भी बाज नहीं आते हैं.

वाराणसी से आ रही बस रूपापुर हाईवे पर खड़े ट्रक में भिड़ी, एक की मौत, 6 घायल

कप्तान अमित पाठक की सख्ती के बावजूद ओवरलोडिंग का खेल जारी है. कप्तान को इस बात की सूचना मिली थी कि ट्रक मालिक फर्जी नंबर प्लेट लगाकर चकमा दे रहे हैं. जिसके बाद उन्होंने एसएसआई राजेश त्रिपाठी को इन अवैध ट्रकों को पकड़ने का काम सौंपा था.

 

आज का अखबार नहीं पढ़ पाए हैं।हिन्दुस्तान का ePaper पढ़ें |

अन्य खबरें